JeevanMag.com

कथा‍-कहानी

यह भी जानो!

अनमोल वचन

काव्य सुधा

चिंतन‍-मनन

हँसी दिल्लगी

ज़रा हटके

Vedic Tip For Faster Calculation

Stuck in a Maths. Calculation? Shade your worries, Vedic Maths. is here to your rescue!!!

Health Pellets

Check up What's going on in the Medical arena!!!

नोकियाः अस्त होता सूर्य

ऋषभ अमृत व आकाश कुमार बता रहे हैं नोकिया की मार्केटिंग में गिरावट की वजह

Join Team JeevanMag.com

If the creative cat inside you is tempting to come out, Fill up this form & get to be amongst us...It's easy!!!

Sunday, 14 August 2016

Independence Day: A time to celebrate and reflect upon- Akash Kumar

It's not just an occasion to celebrate but also to reflect upon where we are headed as a country. As much as it is the moment to take pride in the fact that we have proved Churchill wrong and one of the greatest experiments in the history of democracy has endured, it's also the time to further strengthen the democratic and secular values of our beloved motherland.



In the land of Buddha, a deficit of centrist middle ground is quite evident in politics. Either you are "right" or "left", "with us" or "against us". There is no other way. While the left's lament regarding the freedom of speech and intolerance are heavily exaggerated, the space for dissent in public sphere has shrunk. It's not just the government and the bigoted right wing internet army that is to be blamed, but even the self-proclaimed leftist intellectuals are surprisingly very intolerant to any differences in opinions. Lack-lusture communism is busy finding refuge in caste-based identity politics. The term "secularism" in present Indian context has changed its meaning to suit the vote bank politics which means ignoring the menace of Islamic extremism. On the other end of the political spectrum, bigotry and jingoism have donned on the veil of nationalism. Those against the government are being branded "anti-nationals" in no time. The definition of nationalism has narrowed down to symbolisms of various kinds rather than any material contribution to the nation and its people. The narrow concept of "Nationalism" is a European export to India and was somewhat necessary for our struggle for Independence. But, in spirit we have always been the country of Vasudhaiva Kutumbakam (The world is our family). Ending on an optimistic note, I would like to quote Nobel Laureate Rabindranath Tagore on his vision of India:
"Where the mind is without fear and the head is held high
Into that heaven of freedom, my Father, let my country awake."
🇮🇳Happy Independence Day🇮🇳
Photo Courtesy: Giphy.com

Akash Kumar is the Editor-in-chief of Jeevan Mag. A first year student at the Department of Humanities and Social Sciences at the Indian Institute of Technology-Madras, he is also an alumnus of the YES Program of the US Department of State.
It's not just an occasion to celebrate but also to reflect upon where we are headed as a country. As much as it is the...
Posted by Akash Kumar on Sunday, 14 August 2016

Tuesday, 31 May 2016

Behind The Veil Of Poverty -Wasim Ahmad Alimi


The darkness was decreasing. The sun was about to rise. And the birds in the branches of nearby trees began chirping to announce the upcoming morning of the day. As soon as Shukru got up , he heard the sniffles of his wife, Tajo who was sitting beside him on the bed and her baby was in her lap.
" What made you cry early in the morning ? " Asked Shukru.
" The condition of my baby is getting worse. He is not going to convalesce from his illness. He did not sleep all night and so did I." Tajo said wiping the tears from her eyes.
" We have already spent the certain amount of money for his pill and potions. Now we have no money to go to the threshold of doctor ." Tajo added.
" Yes, we are under the clasp of poverty from which release seems impossible." Shukru said in a sorrowful voice.
Shukru was true , as his house was a fine specimen of poverty. The house was made of bamboo-pieces with a roof of dry and long hays beautifully interlocked by the strong braided fiber cords. The house had a large room in which this poor family used to live, sleep and eat. It had no veranda, no separate kitchen or bed room.The floor was always crammed with the utensils of usual life. In a corner of the home there was a fourposter bed. And thereunto was a shabby wrapped mosquito net. The griminess on their bed-sheet was enough to witness their impoverished lives. In their open yard was an oven beside a pyramid of cow- dung which Tajo used as fuel for cooking. It was their entire life that was already full of trials and tribulations. But now for some days they have been at the end of their tether since their only son, Razi had fallen ill and due to lack of money this married couple was unable to buy necessary medicines for their heart and soul, Razi.
Tajo put her Razi into cradle and swept the floor with a quite murmur of regret;
" Almighty has written all problems in my fate. The problems which are never going to be solved. O God! Why don't You send Your angel of death to anatch me away? If it is life, the death is better........."
Shukru who was nerby somewhere and brushing his teeth with neem twig , heard whtever she was muttering about her sorrowful life.
" Gnaw the bone that is fallen to thy lot."
Said Shukru to his waife.
" You always talk about fortune and taqdeer. You see this kind of fate is worse than death, don't you? But I want my Razi to live a long life. Save him somehow." Tajo said in a resenting tone.
"Razi is as beloved of you as mine. I will leave no stone unturned to cure him. Today is the day of Lakhwa Bazar. I will earn there some money by selling pumpkins. Then we shall carry our son to the doctor and he will have to get better." Shukru said.
Shukru is a green grocer, a poor vegetabe seller whose short income of veg-selling can hardly fulfil the necessities of life rather than extricate and banish him from poverty and helplessness. He and people like him have a world of trouble and suffering. The life of a vegetable man means no happiness. Whatever it means is poverty.
It was afternoon. The sun was getting hotter and hotter. Now Shukru was getting ready to go to a weekly market , Lakhwa Bazar to sell the vegetables. He packed his burlap sack with green pumpkins and stuffs. Shukru wounded a ragged towel round his head turban like which was slightly awry . This turban helps him to escape a litte from the draining burden of bumpkins. The sack of his pumpkins was more heavy than his own weight , so his wife helped him to lift his pile upto his head.
One has to cross two Kms on foot and six Kms by a local train to reach the market from where Shukru lives. Now the heft of pumpkins was on Shukru's head almost breaking his back. He and a seris of vegetable men came out from the squad , thier heads beneath thier loads and they are on their feet in a row like ants hurriedly towards Balam Railway Station fromwhere they will take their bundle of vegetables to Lakhwa Bazar by a local train.
If you have ever visited the country-sides you must know how dusty roads they have. The green grocers turned white as they followed the dusty way. The way was arboured by the network of mango trees. The wind was blowing with the clouds of dust and the dry leaves were falling from the branches. The road had no other traveller than some veg- sellers and hawkers from different villages. They did not stop their journy until they reached the station.
'Balam Railway Station ' was carved on the forehead of the main gate in English ,Hindi and Urdu in their respective order from top to bottom. Shukru and fellows made a heap of their loads in a side of the vestibule. The north wall of this entrance hall had a torn table-fare upside and a thousand dots of colourful spittles in bottom , as though it were the spittoon of the travellers. There was a small ticket counter which had a broken glass window in the vestibule. They took their valid tickets and lifted the loads up to their heads by the help of each other and entered the platform.
The platform had two railway tracks ,one small shelter just in middle , some broken cemented chairs , one or two hand pumps which had no handle to fetch water and a small controller room in which station master and some employees were busy paying their duties. The platform was full of hurly-burly. Hawkers and vendors were wailing to and fro incessantly; Tea, hot tea' ' Gram, fried gram' ' peanuts for time pass' . Porters dressed in red clothes were walking back and forth in search of their clients. These veg sellers crossed the crowd and put their packed sacks on a raised heap of broken bricks forth side of the platform where the second coach of a local train usually stays.
Shukru who was very anxious about his ailing baby , squatted down the ground near his sack of pumpkins. His crumpled and untidy clothes were damp with perspiration. He was lost in deep meditation about the serious condition of his son.
" I wll expend for the potions of Razi whatever I will earn today at market . No matter if we will have to famish two or three times."
Shukru said to himself.
Here at home, Tajo spread out a woven mat of date leaves under the guave tree in her yard and kept moping about the recovery of her baby longing for the prosperity with which the master of the family is due to come back till evening. She waited and waited looking at the door.
Here at the station Shukru too was waiting but for a local train amongst his co- workers. Meantime an RPF came cavorting to them. All of them ducked to see that monster policeman. He closed to them chewing a betel leaf. He ejected the amount of red saliva from his mouth with a rude noise. The splashes of his spittle rained on the bricks just beside where Shuru was sitting. Some of his saliva drops stuck in his dense mustache and some spotted upon his uniform near his chest.
" What have ye packed in yer sacks? So heavy luggages ye all carry in trains."
 The policeman barked at them by injecting his club in thier sacks . It was his common technic of asking the vendors for the bribe . They all paid one by one a certain amount of penny to him to get rid of his bite else Shukru . The policeman twirled his club and attended to him.
" O stubborn dog! Do ye want to be arrested or ye are a relative of Rail Minister? Why ye are not paying?"
 The policeman scolded Shukru.
" Sir , I am already indepted . I have no piece of coin to pay." Shukru said.
" So , how will ye go without paying the protection tax"
The piliceman blurted out.
While the bargaining was continue between them their respective train blowing it's wishtle arrived at the platform. The passangers packed themselves in the couches and the veg sellers uploaded their sacks but Shukru who was still under the clasp of the policeman couldn't.
" Sahebji! I will pay your all taxes some other time.Today I can't. Now let me go."
Shukru begged with folded hand.
"If ye don't have money to pay , ye won't be allowed to upload your sack in the train."
The policeman announced his judgement. The harshness was clear in the credence of his voice. Now the train began to blow it's wishtle as a sighn that it was ready to leave the platform.
" Sahebji! For the sake of God , please let me go or else my son will die of his illness."
Shukru dropped to the policeman's knees and requested. The train wishtled again and got to run.
" Go "
The policeman said in an unsympathetic manner and shuffled away. Some people saw all these from a distance in silence. A coolie helped Shukru to lift his load up to his head . Now the train was getting speed , Shukru started to step fastly beside the train. The pile of pumpkins created difficulty for him to get on a running train as it is always for any body. After ten or eleven steps he threw the packed sack of pumpkins inside the door of a coach , the sack settled in his intended place but Shukru himself collapsed under the gigantic wheels of the train. A blood curdling scream arose in the platform.Women and children began to cry and people crowded the venue of accident.
Stop! Stop! , Pull up the alarm chain!
People shouted.
The train stopped with a strict break and greater noise. The gory and bruised corpse of the poor green grocer was taken out of wheels. Shukru who was quite alive a few minutes ago was no more.
People burning in rage hunted the same policeman who caused Shukru's death but in vain. The silent murderer , the mean policeman had flown away.
Alas for the life of Tajo!
The unexpected and an accidental demise of Shukru made his wife alone a widow and his son an orphan. Hence a middle-aged Tajo was left destitude for the upkeep of her orphan baby . Defeated by the life she started begging at the same railway platform where her husband took his last breathe.

                        × × THE END × ×

Written by: Wasim Ahmad Alimi
Give your feedback via Email at :wasimahmadalimi8@gmail.com




Wasim Ahmad Alimi is from Urdu Department of Jamia Millia Islamia, New Delhi. He is a youth short- story writer and poet in both Urdu and English. He has also translated some literary books and stories.

Monday, 30 May 2016

ये कैसी आज़ादी है? -हसन चौधरी

देश में अब बर्बादी है
ये कैसी आज़ादी है

क्या सपने उनके झूठे थे
जो आज़ादी पर मर मिटे थे
स्वयं हिंसा करते फिरते हैं
फिर कहते गांधीवादी है

देश में अब बर्बादी है
ये कैसी आज़ादी है

अब अश्रुधारा बहती है
पल पल मुझसे कहती है
इस देश को तुमने दिया है क्या?
इस देश का तुमने किया है क्या?
तुम आज़ादी का हक़ क्या जानो
भ्रष्टाचारों, अपराधों से
देश की नाक कटा दी है



देश में अब बर्बादी है
ये कैसी आज़ादी है

आओ फिर वो देश बनाएँ
भ्रष्ठाचार को मिल के मिटाये
आओ शहीदों के सपनों को
मिल मिल कर साकार बनायें

लगे देश में अब आज़ादी है
लगे देश में हाँ आज़ादी है

-हसन चौधरी

हसन चौधरी जामिया मिल्लिया इस्लामिया में बी० ए० हिंदी (ऑ) के छात्र है।

Wednesday, 18 May 2016

पुरस्कार नहीं चाहूँगा (कविता) -अबुज़ैद अंसारी

प्रज्वलित होता दीपक हूँ 
शांति प्रकाश फैलाऊँगा
विकीर्ण होती अशांति पर
नीर बन गिर जाऊंगा
छिन्न पत्र में फिर से
मैं हरित क्रांति लाऊँगा

कृत्यों पर कोई पुरस्कार दे
पुरस्कार नहीं चाहूँगा

अविराम शांति विकीर्ण हो
गर्व से सिर उठा,
निर्भीक हो
पृथ्वी से व्योम तक
शांति प्रकाश फैलाऊँगा

कृत्यों पर कोई पुरस्कार दे
पुरस्कार नहीं चाहूँगा

पथ पर शूल हों
वायु में चिंगारियां
जल का सैलाब हो
हिमाद्रि सी पहाड़ियाँ
मूक होकर लक्ष्य को
स्वयं भेद जाऊँगा

कृत्यों पर कोई पुरस्कार दे
पुरस्कार नहीं चाहूँगा

-अबुज़ैद अंसारी


अबुज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया (नई दिल्ली) में जनसंचार मीडिया / पत्रकारिता के छात्र हैं। आप जीवनमैग के सह -संपादक हैं, और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं। 

Monday, 16 May 2016

हिन्द का कलाम (नज़्म) -अबुज़ैद अंसारी

मर कर नहीं मरा वो इस हिन्द का ग़ुलाम
ज़िंदा अभी दिलों में है हिन्द का कलाम

छोटी सी झोपड़ी में चमका वो दीप बनकर

या था कोई सितारा रामेश्वर के ऊपर


उसने किया जहाँ में ऊँचा वतन का नाम

ज़िंदा अभी दिलों में है हिन्द का कलाम


फोटो क्रेडिट: सुहैब, कक्षा 7, ब्रेन्स कान्वेंट स्कूल -लखनऊ

वो एक कुआँ है जिससे सेराब होंगी सदियाँ
जिससे बहेंगी हर सू इल्मों हुनर की नदियां

वो अम्न का सिपाही, अम्न था पैग़ाम
ज़िंदा अभी दिलों में है हिन्द का ग़ुलाम



अबुज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया (नई दिल्ली) में जनसंचार मीडिया / पत्रकारिता के छात्र हैं। आप जीवनमैग के सह -संपादक हैं, और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं। 

Thursday, 12 May 2016

The Inner Voice (Poem) -Wasim Ahmad Alimi

I am here , but my heart is somewhere
The time is too difficult without you , to spare
If you don't mind , I would dare
To say " you are my love " please be aware .
O chaste ! When the splashes of thy love ,
are not on the surface of my heart ,

It is a ravaged and dreary desert .
I open my lips to say and blurt
I wanna peck a soft kiss on your smiling lips,
O my houris ! Be attentive and alert.
You are my love , you are my love .




Wasim Ahmad Alimi is from Urdu Department of Jamia Millia Islamia, New Delhi. He is a youth short- story writer and poet in both Urdu and English. He has also translated some literary books and stories.

Saturday, 7 May 2016

माँ और बचपन की याद (नज़्म)-वसीम अहमद अलिमि

मेरे बचपन का मुझे सारा ज़माना याद है।
माँ तेरी आग़ोश में वो मुस्कुराना याद है।

थपकियाँ देना तेरा लोरी सुनना याद है।
मेरी खुशियों के लिए वो गुनगुनाना याद है।

उँगलियों को थाम कर चलना सिखाना याद है।
माँ की ममता का मुझे सारा फ़साना याद है।

मेरी नन्ही आह पर आँखों का नम होना तेरा
मेरी राहत के लिए वो रात भर जगना तेरा


मुझको रोता देख कर दौड़े हुए आना तेरा
अपने आँचल के तले वो गोद में लेना तेरा

रात में जुगनू दिखा मुझको डराना याद है

माँ तेरी शफ़क़त का हर किस्सा फ़साना याद है।
ये जो मेरी ज़िन्दगी है, माँ का ही एहसान है।

माँ की अज़मत पर न्यौछावर ज़िन्दगी और जान है
-वसीम अहमद अलिमि

वसीम अहमद अलिमि जामिया मिल्लिया इस्लामिया में उर्दू विभाग से सम्बन्ध रखते हैं। आप युवा कथाकार तथा कवि है और कई अलग अलग साहित्यिक पुस्तकों के अनुवादक भी हैं।






Saturday, 12 March 2016

तुझे जाना बहुत दूर है (कविता) - अबुज़ैद अंसारी


हार कर तू हार को
क्यों अपनी हार मानता है।
बीच राह में क्यों ठिठक कर
लक्ष्यहीन हो तू खड़ा है।
लक्ष्य को आयाम दे
पंखों को उड़ान दे
तेरा लक्ष्य बहुत दूर
तुझे जाना बहुत दूर है।

उपवनों को देखकर
क्यों रुके तेरे क़दम
साथियों की महफ़िलों में
कहाँ खो गए पथिक तुम
हे ! पथिक चलो बढ़ो
लक्ष्य बहुत दूर है।
तेरा लक्ष्य बहुत दूर
तुझे जाना बहुत दूर है।



                                                        Photo credit: vandaelecapital.com

कंटकों का पथ है आगे
तम से ना डरो पथिक
तुम निरंतर बढ़ चलो
पर्वतों पर चढ़ चलो
तुम अजेय बनो पथिक
तुम बनो शूर
तेरा लक्ष्य बहुत दूर
तुझे जाना बहुत दूर है।

कल जो तुझमे लालसा थी
वह कहाँ गई पथिक
क्यों रुके तेरे क़दम
चल पड़ो  तुम हे ! पथिक
कंटकों से, उपवनों से
पर्वतों से आगे
लक्ष्य बहुत दूर है।
तेरा लक्ष्य बहुत दूर
तुझे जाना बहुत दूर है।

- अबुज़ैद अंसारी



अबुज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया (नई दिल्ली) में जनसंचार मीडिया / पत्रकारिता के छात्र हैं। आप जीवनमैग के सह -संपादक हैं, और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं। 


Monday, 25 January 2016

I'm ugly and proud

Photo Credit: giphy.com
I'm ugly. No I'm not creating any drama. I'm just stating the obvious. I'm ugly. Why? Cause I don't have a 6 pack, I'm not fair, I don't have a lean physique and I'm pretty sure I have grey hair. Well ain't that the definition of 'handsome' these days? And I heard being a girl is way harder. 34-36-34 figure, a good rack, butt, long hair, manicured hands, fair, perfectly applied makeup and be prim and proper all the times. Well at least that's the definition of 'hot' that I've heard so far. Now I'm pretty sure, by now I have made you self conscious and must be checking out your body. Right? Now I'm not trying to lower your self esteem. I'm just giving you a reality check of how we perceive beauty in today's world.

Should I tell you a secret? Only 6% of the worlds population look like the definition of handsome and hot I gave above. The rest of the 94% looks just like you and me. I mean how do you actually measure someone's beauty? How can you tell that by having a perfect hour-glass figure or having 6 packs make you look sexy? I've never really understood beauty.

Now I'm not going to go real deep and tell you all that true beauty lies within. That's crap - no one really believes that. Everyone falls for a person with attractive physical features, and if your going to say you don't - then you're lying. I hate the term 'beauty' 'handsome' and 'hot' - these words make a person feel insecure. These days everyone is trying to look perfect. But for whom?

I have nothing against people who look perfect, to each their own choice. What I'm more concerned is the direction we're all heading towards. Personally I'm proud of the way I look - I don't exercise more than I need to, I never diet and I dress in the most absurd clothes you can think of. It is us that has made such a fake perception of beauty that the real meaning of beauty has been lost amidst the standard of beauty that 'media' and 'people' has set. Some people go to such length to look perfect that they starve themselves.

I just want to emphasize that the only person you should look good for is you yourself. Beauty is not physical appearance, beauty is self confidence. Physical appearance is just for what 30 or 40 years maximum, but what about after that? Your body will not remain the same forever. Will you still have your perfect figure and 6 packs when your old. The real beauty is making others awestruck of your presence and radiance and no matter how perfect you try to look - it's the inner self belief and confidence that can bring out that aura. For me beauty is very realistic. I find beauty in simple things - such as how much you respect woman, or how you treat someone younger than you or simply taking a stroll while having a hearty laugh.

And if you consider beauty to be to look perfect - then I'm happy being ugly.


This blog post is inspired by the blogging marathon hosted on IndiBlogger for the launch of the #Fantastico Zica from Tata Motors. You can apply for a test drive of the hatchback Zica today.

Friday, 11 December 2015

The "So-Called" Feminism

Feminism is being taken to a whole new level of stupidity in today's world. I, just like most of you, am a firm believer of female rights, but some so called 'feminists', or should I say 'Feminazis' have compelled me to write out my frustration.

Last year celebrities such as Beyonce, Jane Lynch and others started a world wide campaign called Banbossy.com, in order to ban the word 'bossy'. The idea behind this so called 'campaign' was that females are less interested in leadership because they are worried of being called bossy. I find that an insult to females because that just implies that they are weak to overcome the torture of a word. 

Meanwhile Iraqi parliamentarians were discussing to pass a new law LEGALIZING MARITAL RAPE and PROHIBITING WOMEN TO LEAVE THEIR HOME WITHOUT HUSBANDS' PERMISSION and legalizing 'MARRIAGE OF 9-YEAR-OLD-GIRLS' last year. Alas, feminists were too busy banning a choiced 'words' to take notice. And neither did these so called 'feminist' put any pressure of Saudi Arabia when a new law was passed that 'FEMALE DRIVERS WOULD BE CHARGED AS TERRORISTS.'


Another thing feminist's wanted to ban was 'MAN-SPREADING.' Apparently feminists didn't want men to sit with their legs spread in public transports and places. They called it a 'SPACE ISSUE.' They wanted men to sit with their legs crossed over each other. Now I may even agree to that in certain context but what's the hell does it mean to start a new hastag on twitter called #KillAllMen. 

Underscoring once again how many feminists have misappropriated the women's right movement into an excuse for hating men. And that too was okay for twitter, but when one women dared to start a hastag revolt called #WomenAgainstFeminism, feminists demanded twitter to suspend her account. Talk about comradeship. Meanwhile #ISIS was asking twitter followers on ways how they can kill and torture the captured Jordanian pilot. 

While a women was stoned to death in the Middle East for not marrying the family's choice of suitor (Honor Killing), the feminists of the free world were busy demanding that they be allowed to post pictures of their 'NIPPLES' or 'NIP-PICS' on Instagram. Meanwhile is selling females into slavery for as low as $10 but no, feminists were busy making nudity into a political movement. Yes, this is the big freedom feminists are fighting for. Talk about priorities. 

And then on Facebook, yet again 'feminists' strike. Calling and updating 'ALL MEN ARE THE SAME.' What does that even prove? 2 question:
1) Does that include your father, brother, uncle, husband and friend in that same category?
2) Did you do a survey on the 3+ billion men in this world?

Long gone are the days when feminism actually stood for something. When feminists were taking the correct stands for voting rights, women's right to buy property, demanding that females be not treated like a second class citizen. Today, feminism has become a joke and some 'feminists' are making a mockery out of feminism. Get your priorities right!

Ashneel J Prasad is  the Oceania (New Zealand/ Fiji) correspondent of JeevanMag.com A Fijian of Indian descent, Ashneel is currently a student of B.A communications at Massey University, Auckland, New Zealand.


Silent Sorrow- Shadab Khan

Tonight,

as I stand in the middle of incomplete us,

I hear the leaves whisper;


They tell me about-

the million sunsets that faded

and the one that lived.


That one sunset in my heart,

which I have

lighted forever.



They tell me about-

How I've been burning in water and

How I never loved you,

drowning in flame.

I lived you.


And I stand there

moon collapse,

while the ocean stills and

into ten thousand fragments of me,

which you could never love;

Or, you just pretend not to?


and I, on our meeting ­bridge

Tonight,

"Only the moon

alone, growing cold"

by knowing-


Every me is longing you;

Longing us.


MD. SHADAB KHAN is pursuing his Bachelors degree in Business from Jamia Millia Islamia, New Delhi. He was India's youth ambassador to the United States on YES program of the US Department of State during the year 2013-14.

Thursday, 29 October 2015

खिलौने देकर बहलाने की कोशिश!

सोचिए तो हंसी आती है कि देश के असाधारण साहित्यकारों एवं लेखकों को कितनी आसानी से तमन्नाओं में उलझाने और खिलौने दे कर बहलाने की कोशिश की जा रही है । साहित्यकारों के साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने और पद छोड़ने की प्रक्रिया से परेशान होकर अकादमी ने 23 अक्टूबर 2015 को अपने कार्यकारी मंडल की आपातकालीन मीटिंग बुलाई थी, इस मीटिंग में प्रोफेसर एमएम कलबुर्गी की हत्या की निंदा करने के बाद बड़ी सादगी से पुरस्कार लौटाने और पद छोड़ने वाले साहित्यकारों से अपील की गई कि वह अपने पुरस्कार वापस ले लें और अपने पदों पर आकर फिर से काम शुरू करें । 

चार घंटे चली इस बैठक में जो प्रस्ताव पारित हुआ उसमें एमएम कलबुगी के अलावा किसी और पीड़ित का नाम नहीं लिया गया । अकादमी ने केवल एक लाइन में यह कहकर दामन बचाने की कोशिश की कि "जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जी रहे नागरिकों में हो रही हिंसा की भी वह(साहित्य अकादमी) कड़े से कड़े शब्दों में निंदा करती है"।
यह प्रस्ताव एक दो लेखकों को खुश तो कर सकता है परन्तु देश के ज्यादातर विद्वानों एवं साहित्यकारों का दिल नहीं जीत सकता । अबतक 40 से ज्यादा साहित्यकारों ने अपने पुरस्कार लौटाए और पद त्याग दिए हैं । और चूँकि अवार्ड लौटना साहित्यकारों का कोई सामूहिक फैसला नहीं था, इसलिए उन मे से हर एक की उत्तेजनाएं अलग अलग थीं ।
एमएम कलबुर्गी की हत्या 30 सितम्बर को हुई, तबसे अखलाक की हत्या तक 6से 8 के बीच लेखकों ने पुरस्कार वापस किए थे । फिर 28 अक्टूबर को दादरी में अख्लाक की हत्या की गई । इस हिंसा के बाद लेखकों में अवार्ड वापस करने की होड़ सी मच गई ।अतः यह कहना उचित होगा कि कलबुर्गीजी की हत्या से सम्मान लौटाकर विरोध करने की प्रक्रिया शुरू हुई थी, परन्तु इस प्रक्रिया में तूफ़ान अखलाक की हत्या के बाद आया । नयनतारा सहगल का साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटना एक तूफ़ान की आरंभ था । और सहगल ने पुरस्कार लौटाने के बाद अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के साथ खान-पान एवं पूजा-पाठ की स्वतंत्रता की वकालत की थी । इन्हीं मूल अधिकारों को लेकर बड़ी संख्या में साहित्यकरों ने विरोध प्रकट किया ।
इस सन्दर्भ में देखें तो अकादमी द्वारा पारित प्रस्ताव अधूरा मालूम होता है । प्रस्ताव में सम्पूर्ण साहित्यकारों की मंशा एवं उनके मांगों का आधा ख्याल रखा गया है । कई साहित्यकारों की उत्तेजनाओं का प्रस्ताव में ज़िक्र ही नहीं आया । इस बारे में नयनतारा सहगल का बयान आया है:" साहित्य अकादमी का जवाब देर से आया है. और प्रस्ताव देश के बड़े मुद्दों को जगह देने में नाकाम रहा है. प्रस्ताव में व्यक्ति के स्वतंत्रतापूर्वक खान-पान और पूजा-पाठ करने के मामलों एवं अधिकारों को भी शामिल किया जाना चाहिए था".हाँ ! प्रस्ताव में एक जगह समाज के विभिन्न समुदायों से एकता और समरसता बनाए रखने की गुज़ारिश की गई है.किन्तु सहगल इन दुर्घटनाओं के लिए समुदाय को ज़िम्मेदार नहीं मानती हैं । उन्हों ने कहा :" मेरे विचार में यह सही नहीं है. कोई समुदाय चिंता का कारण नहीं बन रहा है. बल्कि तथाकथित हिंदुत्व विचारधाराओं के मानने वाले बीजेपी और कुछ छोटे दलों के अराजक तत्व लोगों पर हमला कर रहे हैं " ।
प्रस्ताव में इतनी सारी कमियों के बावजूद अकादमी ने साहित्यकारों से पुरस्कार एवं पद वापस लेने की अपील की है । प्रश्न उठता है कि अकादमी के इस निवेदन पर साहित्यकारों की प्रक्रिया क्या होगी?क्या साहित्यकारों का आक्रोश केवल एक एमएम कलबुर्गी की हत्या से जुड़ा हुआ था? साहित्य अकादमी द्वारा कलबुर्गी के क़त्ल की निंदा और हत्यारों के खिलाफ कार्रवाही की मांग अवार्ड लौटाने वाले साहित्यकारों की आखिरी मंजिल साबित होगी? उत्तर मालूम है नहीं । उनकी मांगें सीमित नहीं थी । उनके इस विरोध में उन घट्नाओं का भी बड़ा योगदान था जिनका ज़िक्र प्रस्ताव में नहीं किया गया । इस के बावजूद साहित्य अकादमी साहित्यकारों को किस मुंह से अवार्ड वापस लेने की बात कह रही है । उसके आचरण को देखकर अहमद फ़राज़ की लाइन याद आती है ।
"अपनी आशुफ्ता मेज़ाजी पे हंसी आती है''
मेरी राय है कि साहित्य अकादमी फिलहाल साहित्यकारों को पुरस्कार वापस देनें की चिंता छोड़ कर उनकी मांगों पर ध्यान केन्द्रित करे । सम्पूर्ण लेखकों की मांगों को प्रस्ताव में शामिल करे और उन्हें पूरा करने के लिए सरकार पर दबाव बनाए । 


हसन अकरम जामिया मिल्लिया इस्लामिया के उर्दू विभाग के छात्र हैं।

Monday, 12 October 2015

एक कसक दिल की दिल में दबी रह गई... -हसन अकरम

आज से चार पांच वर्ष पहले जब एक मित्र ने मुझे यह बताया था, कि जावेद इकबाल जीवित हैं तो मुझे यक़ीन नहीं आया था मैंने उससे कई बार प्रश्न किया था:"किया वही जवेद इकबाल' जो शायर-ए-मशरिक़ के पुत्र हैं ? जावेद इकबाल के नाम से मुझे वह घड़ी याद आ गई जब छठी कक्षा में कमर-ए-आलम सर ने इकबाल की एक कविता जिसका शीर्षक "जावेद के नाम " है' सुनाई थीऔर इसकी पृष्ठभूमि बताते हुए कहा था कि यह कविता अल्लामा इकबाल ने अपने इसी पुत्र जावेद इकबाल के लिए लिखी थी। 






इस याद के साथ जब मैंने जावेद इकबाल के जिंदा होने की बात सुनी तो दिल में एक हुल्बुलाहट सी होने लगी मेरा दिल कहने लगा मुझे उस हस्ती से अवश्य मिलना चाहिए तब मैंने सोचा था, कि मैं जावेद इकबाल से ज़रूर मुलाक़ात करूंगा मैं उस हस्ती से मिलूँगा जिसके शरीर में इकबाल का लहू दौड़ता है मैं उस व्यक्ति से मिलूँगा जिसे इकबाल ने अपनी कोशिशों के द्वारा महानता के इकबाल तक पहुँचाया था मैं उससे मिलकर उन हाथों को चूम लूँगा, जिन पर शायर-ए-मशरिक़ के स्पर्श मौजूद हैंमेरी आँखों को उस बेटे का दीदार हो जाएगा जिससे इकबाल की यादें जुड़ी हैं किन्तु यह सब सोचने के कुछ ही छणों बाद मुझे एहसास हुआ था, कि 62 साल पूर्व के बटवारे में इकबाल पाकिस्तान के हिस्से में चले गए थे, इसलिए आज भी उनका परिवार पाकिस्तान में निवास करता है अतः जावेद इकबाल से मिलने के लिए मुझे संयुक्त विरासतें रखने वाली भूमि के बीच खड़ी की गई सीमा को पार करना होगा एवं इसको पार करने के लिए मुझे पासपोर्ट और वीजा प्राप्त करने होंगे, जिसका खर्च सहन करने की क्षमता मुझ में नहीं थीतब फिर मैंने सोचा था कि जब मैं अपने पैरों पर खड़ा हो जाऊंगा और कुछ धन इकट्ठा करलूँगा तो पासपोर्ट एवं वीज़ा प्राप्त करके अपने महबूब जावेद इकबाल से मिलने जाऊंगा परन्तु मेरे इस कल्पना के पूरा होने का प्रकृति ने इंतजार नहीं किया.और इसी 3 अगस्त को उनके देहान्त के साथ ही मेरा सपना अधूरा रह गया




हसन अकरम

उर्दू विभाग,जामिया मिलिया इस्लामिया

Friday, 9 October 2015

शरद ऋतु का आगमन (फ़ीचर) -अबुज़ैद अंसारी

अक्टूबर माह की शुरुआत हो गई, दिन एक - एक कर के गुज़र रहा है, साथ ही मौसम करवटें ले रहा है। अब शाम दूसरी ऋतुओं की तुलना में जल्दी होती है। रात के आखरी पहर में हल्की - हल्की ठंडक चादर ओढ़ने और पंखा बंद करने पर मजबूर करती है। मौसम के आने की इस आहट से लगता है कि अब अधिक दिन नहीं बचे शरद ऋतू के आने में, हर प्रकार के मौसम में अलग ही आकर्षण होता है चाहे सर्दी हो या गर्मी या बसंत या बरसात सब अपने आप में सुन्दर, आकर्षण और बहुत ही अलौकिक हैं जो इस धरती पर फैली समस्त प्राकृतिक को खुद में समेट कर अपने रंग में रंगने में सक्षम हैं। सर्दियों के मौसम आते ही तापमान घट जाता है, लोगों की वेशभूषा बदल जाती है, वहीं गर्मी की चिलचिलाती धूप गुनगुनी और आनंदमय लगने लगती है। ओंस की बूंदे पेड़ - पौधों के पत्तों पर बिखर कर मोतियों सी प्रतीत होती हैं। दूर कहीं ऊंचे -ऊंचे पर्वत बर्फ की मोटी-मोटी परतों से ढक कर भोर में सूर्य की किरणों से चाँदी की तरह चमकते हैं।


Photo credit: adirondack-park.net
मैदानी इलाक़ों में फैले बड़े - बड़े मैदान जो ज़मीन को आसमान से मिलाने की क्षमता रखते हैं उनका क्षितिज भी धुंध से धुंधला पड़ जाता है। मगर उन मैदानों पर गेंहूँ की बालियाँ सूर्य प्रकाश में सोने सी चमकती हैं। प्रवासी पक्षियों का आवागमन शुरू हो जाता है, वन हो या छोटा या बाग़, हमें अलग अलग प्रकार की पक्षियों के देखने और उनकी सुरीली ध्वनि सुनने का अच्छा अवसर मिलता है। प्राकर्तिक के आँगन में शरद मौसम की इस बहार से सुंदरता और भी बढ़ जाती है। गुलाब, गुलदाउदी, नरगिस ना जाने कितने अलग - अलग प्रकार के पुष्प दूर दूर तक अपना साम्राज्य स्थापित कर लेते हैं। शरद ऋतु की सामाजिक और धार्मिक महत्वता प्राकर्तिक महत्वता से कम नहीं है। यही तो वह मौसम है जिसमे व्रत उपवास, त्यौहार, तीर्थ, पूजा, समाहित है। यह ख़ुशी उल्लास और उमंग का मौसम है। जहाँ इस मौसम में ख़रीफ़ की कटाई होती है वही दूसरी ओर दिन रात काम करने वाला देश का अन्नदाता किसान रबी की फ़सल बोने की तैयारी करता है। वाणिज्य और व्यापार के लिए सबसे अनुकूल मौसम, अधिकतर विवाह भी इसी मौसम में होते हैं इस प्रकार से शुभ आयोजन, स्वच्छता आदि से इस मौसम का गहरा संबंध है। इस तरह शरद ऋतु अपने सौंदर्य के साथ श्रृंगार करने में सक्षम है। इसके आगमन से प्रकृति का मिजाज़ तो बदलता ही है , हमारे अपने रीति - रिवाज, संस्कार, पहनावा रहन - सहन में भी कई महत्वपूर्ण बदलाव आ जाते हैं।

-अबुज़ैद अंसारी

अबुज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया (नई दिल्ली) जनसंचार मीडिया / पत्रकारिता के छात्र हैं। आप जीवनमैग के सह -संपादक हैं, और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं। 




Thursday, 30 July 2015

डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम : हमारे सच्चे मार्गदर्शक को श्रद्धांजलि -अबुज़ैद अंसारी


बहुत देर से कई घंटों तक क़लम हाथ में लिए बैठा रहा, सोचता रहा क्या लिखूं, हज़ारों लाखों शब्द दिमाग़ से हृदय - हृदय से दिमाग़ की ओर दौड़ते रहे। मैने आज अपने जीवन में ऐसी ख़ामोशी का एहसास किया जिसकी मैने कभी कल्पना भी नहीं की थी। ऐसी ख़ामोशी जिसमे अपने हृदय के चीख़ - चीख़ कर रो देने की आवाज़ प्रतीत की की, एक पल के लिए रगों में दौड़ता हुआ ख़ून ठंडा सा होता प्रतीत हुआ, इस पल में लगा जैसे धरती पैरों से खिसकी नहीं खिसका दी गई हो। ये वो पल था जब मेरी छोटी बहन ने दौड़ते हुए आकर मुझे समाचार दिया

"भारत के पूर्व राष्ट्रपति काका कलाम नहीं रहे"

ये मेरे लिए बहुत मुश्किल समय था कि मैं खुद को इस बात पर विश्वास दिला सकूँ, बार बार हृदय से यही प्रशन उठते 'क्या ये सच है? या महज़ एक सपना? 26 जुलाई की रात मैं पिताश्री से उनकी ही चर्चा कर रहा था और 27 जुलाई को ये सब हो गया। आज का दिन तो और दिनों की ही तरह था, देखने पर कोई बदलाव तो प्रतीत नहीं हो रहा था, मगर सोचनें पर ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे सब कुछ बदल गया हो, मैं उलझन में पड़ गया था कोई शब्द ही नहीं थे कि किसी से कुछ कहूँ या खुद से कुछ कह सकूँ, मैने घर से बाहर निकल कर सड़कों पर दौड़ लगा दी, जिधर गया जिधर से निकला मातम सा छाया हुआ था। लोगों के चेहरों पर एक अजीब थी, कोई किसी से कुछ नहीं कह रहा था। हर तरफ़ बस एक ख़ामोशी थी। इन उदास और ख़ामोश चेहरों के पीछे मैं रोते हुए चेहरों को साफ़ - साफ़ देख सकता था। ये हाल सिर्फ़ मेरे शहरवासियों का ही नहीं बल्कि हर उस भारतवासी का था।

कलाम जिनके लिए एक मार्गदर्शक थे। उनको प्यार करने वाला ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं होगा जिसकी आँखें आज नम ना हुई हों, मैं स्वयं रोया था , मगर ये सोच कर आँसू छुपा लिए कि कहीं कोई देख ना ले, सारा देश आज शोकाकुल है। आज भारत माँ ने अपना सच्चा सपूत खोया है। आज हम सब ने ऐसे व्यक्ति को खो दिया जो कभी अपने लिए नहीं जिया, बल्कि लोगों के लिए जिया। उनके चले जाने से हम सब के बीच एक ख़ालीपन सा महसूस हो रहा है, जिसकी भरपाई शायद ही हम कभी कर सकें।



Photo Credit: indianexpress.com


कलाम साहब बहुत साधारण से व्यक्ति थे , मगर उनका व्यक्तित्व असाधारण था। विशेषरूप से युवा पीढ़ी और बच्चों के वो सच्चे मार्गदर्शक थे। उनका जीवन एक मिशन था, उन्होने अपने जीवन को कई अलग -अलग भूमिकाओं में एक साथ जिया, एक लेखक के रूप में, एक कवि, वैज्ञानिक, राजनीतिज्ञ, दार्शनिक, विचारक और वे इन सभी भूमिकाओं में खरे थे। एक आम ग़रीब छोटे से परिवार होने के बावजूद भी उन्होंने कामयाबी के कई बड़े आयामों को तय किया और स्वयं को सिद्ध कर आसमान से भी ऊँची बुलंदियों को छुआ। वे एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे जो अपनी प्रतिभा के बल पर भारत के राष्ट्रपति बने। अपनी दूरदृष्टि से उन्होने अपने सपनों का नहीं भविष्य का भारत देखा था। "मिशन 2020" इसका सबसे उपयुक्त उदहारण है। हम सब देशवासियों को इस भविष्य के भारत को भविष्य में नज़र आने जैसा बनाने के लिए "मिशन 2020" से जुड़ जाना चाहिए और इसे सच करने के लिए कलाम साहब के बताए सिद्धांतों पर चलना चाहिए। मेरी दृष्टि से यही डॉ कलाम को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
वो चमकता हुआ हीरा थे। जिसकी चमक भारत ही नहीं बल्कि सारे विश्व में फ़ैली, जो आज भी क़ायम है। वो हीरा हमने ज़रूर खो दिया मगर उसकी दी हुई चमक हमारे आस - पास आज भी बाक़ी है। क्यों ना हम सब इस चमक से लबरेज़ हो जाएं। 

-अबुज़ैद अंसारी 

अबुज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया (नई दिल्ली) जनसंचार मीडिया / पत्रकारिता के छात्र हैं। आप जीवनमैग के सह -संपादक हैं, और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं। 




Wednesday, 29 July 2015

जीवन मग टीम की ओर से डॉ कलाम को भावभीनी श्रद्धांजलि

पूर्व राष्ट्रपति भारत-रत्न वैज्ञानिक डॉ एपीजे अब्दुल क़लाम का आई.आई.एम शिलांग में  छात्रों को सम्बोधित करते वक़्त दिल का दौरा पड़ने से बीते सोमवार 27 जुलाई को निधन हो गया. अचानक हुई इस अपूरणीय क्षति से भारतीय जनमानस सन्न रह गया. जीवन मग की टीम ने भी क़लाम साहब को अपने शब्दों में श्रद्धा-सुमन अर्पित किये:-

Sketch by: Mr. Anil Bhargava, Graphics Designer, JeevanMag.com

Words would never suffice to explain the irreparable damage caused to the nation by Dr. APJ Abdul Kalam's demise! Dr....
Posted by Akash Kumar on Monday, 27 July 2015
President, Scientist, Poet, Author, Statesman and the ultimate Role-model for the Indian youth.The man who taught the...
Posted by Akash Kumar on Monday, 27 July 2015
कलाम साहब नहीं रहे... वर्षों बाद समूचा देश रो रहा है... इस महान शिक्षक, वैज्ञानिक और पब्लिक प्रेजिडेंट को हमारा शत शत नमन... ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना.... !!
Posted by Nandlal Sumit on Monday, 27 July 2015
बहुत देर से कई घंटों तक क़लम हाथ में लिए बैठा रहा, सोचता रहा क्या लिखूं, हज़ारों लाखों शब्द दिमाग़ से हृदय - हृदय से दिमाग़ ...
Posted by Abuzaid Ansari on Thursday, 30 July 2015
कुछ कहने का मन नहीं है और आवश्यकता भी नहीं है। जिन्होंने 'गांधी' को मरते देखा होगा वो शायद इस दुर्घटना की तुलना कर सकते ...
Posted by Raghavendra Tripathi on Monday, 27 July 2015
वो महलों में नही मरे..नाही वो बिस्तर पर आराम कर रहे थे...उम्र का तकाजा तो थालेकिन वो सार्वजनिक जीवन से दुर होकर नही मरे...
Posted by Aminesh Maurya on Monday, 27 July 2015
आज मैं सुबह जगा तो उदास था। मौसम उदास था। सुबह उदास थी। इसलिए मैं कॉलेज नहीं जाने को सोच रहा था। पर घर पर कुछ ज्यादा ही ...
Posted by Kuldeep Kumar on Tuesday, July 28, 2015

Sunday, 28 June 2015

बदलते बर्मा में राह तलाशता चीन

हाल ही में बर्मा की लोकतंत्र समर्थक नेता और नोबेल (शांति) विजेता आंग सान सू की ने चीन की राजनीतिक यात्रा की है. चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के आमंत्रण पर यह उनकी पहली चीनी यात्रा थी. इस पाँच दिवसीय (दस से चौदह जून) यात्रा ने वैश्विक मीडिया में खूब सुर्खियाँ बटोरी.

गौरतलब है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सू की से मुलाक़ात करने के लिए प्रोटोकॉल तोड़कर उनका स्वागत किया. कुछ वर्षों पूर्व तक यही चीन बर्मा में लोकतंत्र के लिए संघर्ष करने वाली सू की की नज़रबंदी का हिमायती था. वहीं दूसरी ओर चीन में लोकतंत्र के लिए संघर्ष करने वाले नोबेल (शांति) विजेता लेखक लू श्याबाओ आज भी एक कैदी का जीवन जीने को बाध्य हैं. उन्हें रिहा करने की पश्चिमी देशों की अपील को चीन बार-बार ठुकराता रहा है. सू की का बर्मा में वही स्थान रहा है जो चीन में लू का है. जाहिर है चीन अपने राजनीतिक और सामरिक हितों को साधने के लिए किसी भी वैश्विक विचारधारा और राजनीतिक हस्ती (सत्ताधारी या गैर-सत्ताधारी) से हाथ मिला सकता है. चीनी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा- “दुनिया इस भ्रम में न रहे कि बर्मा में लोकतंत्र की स्थापना की पहल से दोनों देशों के रिश्तों में कमी आई है. दोनों देश पारस्परिक साझेदारी से क्षेत्रीय विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं.” दूसरे नज़रिए से देखें तो पहले से ठीक विपरीत आज चीन औचित्यपूर्ण उदारवादी सोच की ओर अग्रसर हो रहा है. लेकिन इस पर भरोसा करना असहज है और खासकर भारत के लिए तो मुश्किल भी.

चीन बर्मा में सैन्य शासन का पुरज़ोर समर्थक रहा है. लेकिन फिलहाल बर्मा की सेमी-सिविलियन सरकार के काल में दोनों देशों के संबंध कमजोर हुए हैं. जनता के भारी विरोध के बाद थेन सेन सरकार ने चीन की तीन महत्वाकांक्षी मूलभूत ढांचा विकास परियोजनाओं- लेप्टाडाँग तांबा खदान, मित्सोने पनबिजली बाँध और रक्खिने (बर्मा)- कुनमिंग (चीन) रेलमार्ग विकास परियोजना को रद्द कर दिया था. जिससे बर्मा में चीनी निवेश पिछले 4 वर्षों में 8 अरब डॉलर (2011 में) से घट कर महज 50 करोड़ डॉलर (2015 में) रहा गया है. इससे बर्मा में चीन के बढ़ते प्रभाव को जबरदस्त झटका लगा है. वहीं चीन बीते चार महीनों से बर्मा सीमा पर कोकांग क्षेत्र में हो रहे जातीय विद्रोह और पनपते उग्रवाद से भी परेशान है.
सू की से मुलाक़ात में चीनी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने उन्हें अपने पक्ष में करने की भरसक कोशिश की है. म्यांमार में इस साल के अंत तक आम चुनाव होने हैं. संभव है, इसमें सू की के नेशनल लीग फ़ॉर डेमोक्रेसी को बहुमत प्राप्त हो. चीन इस संभावित जीत में अभी से ही अपनी संभावनाओं की तलाश कर रहा है. वह बर्मा के लोगों का विश्वास फिर से हासिल करने के लिए सू की की लोकप्रियता का सहारा लेना चाहता है.

दूसरी तरफ बर्मा में सैन्य शासन की स्थापना (1962-63) से ही भारत और बर्मा के रिश्तों में ठहराव आ गया. 1993 के बाद पीवी नरसिंहाराव और अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के प्रयासों से म्यांमार की चीन पर निर्भरता घटी और बाकी दुनिया से अलगाव भी कम हुआ. वहीं विश्व के सबसे विशाल लोकतंत्र भारत ने कभी सू की और उनकी पार्टी के लोकतांत्रिक संघर्ष का भी मुखर रूप से समर्थन भी नहीं किया. सू की का भारत से बस इतना रिश्ता है कि वह दिल्ली विश्वविद्यालय से पढ़ी हैं. क्या इस रिश्ते को कूटनीतिक मोड़ नहीं दिया जा सकता

बीते सप्ताह भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव एस जयशंकर ने म्यांमार की यात्रा की. यह दौरा भारत के पक्ष में नहीं रहा. बर्मा ने दो टूक शब्दों में भविष्य में एनएससीएन (नेशनलिस्ट सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ़ नागालैंड) के खिलाफ़ किसी भी सैन्य अभियान में भारत का सहयोग देने से इनकार कर दिया है. क्या यह इसी महीने हुए भारतीय सैन्य अभियान पर सरकार द्वारा ढिंढोरा पीटने का परिणाम है? या इसके पीछे बर्मा सरकार की कुछ और मजबूरियां हैं? बर्मा सरकार का कहना है कि चरमपंथियों के खिलाफ अभियान से उनके देश के भीतरी इलाकों में घुस आने का डर है. क्या यह सच और वाजिब है?

चीन अभी से ही भावी लोकतांत्रिक म्यांमार में अपनी संभावनाएं तलाश रहा है. वह बर्मा से हिन्द महासागर में सीधे प्रवेश का रास्ता ढूंढ रहा है. चीन धीरे-धीरे भारत को पश्चिम में पाकिस्तान, दक्षिण में श्रीलंका और पूर्व में म्यांमार की मदद से घेरने की कोशिश में सफल भी हो रहा है. ऐसे में हमें भी शीघ्र ही अपना रास्ता ढूंढ लेना चाहिए.   
नन्दलाल मिश्र जीवन मैग के प्रबंध संपादक हैं। सम्प्रति आप दिल्ली विश्वविद्यालय के संकुल नवप्रवर्तन केन्द्र में मानविकी स्नातक के छात्र तथा दिल्ली विश्वविद्यालय सामुदायिक रेडियो के कार्यक्रम समन्वयक है। आप बिहार के समस्तीपुर से ताल्लुक रखते हैं।

Tuesday, 26 May 2015

ई हs विज्ञापन के दुनिया, तू देख बबुआ

सुप्रीम कोर्ट ने जनता के पैसे से मीडिया में नेताओं के फोटो वाले विज्ञापन प्रसारित व प्रकाशित करने पर रोक लगा दी है. हालाँकि मोदी जी को इसकी छूट होगी. वह देश के प्रधानमंत्री हैं. प्रतियोगिता-परीक्षा के लिए सामान्य ज्ञान में वृद्धि हेतु जानना लाभप्रद रहेगा कि यह छूट राष्ट्रपति और सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को भी प्राप्त होगी.

कुछ मुख्यमंत्रियों को इस नियम से आपत्ति है. अरविंद इनमें नहीं हैं. उनके विज्ञापन एफ़एम पर आते हैं. रेडियो में तस्वीर की झंझट होती ही कहाँ है. विज्ञापन जितना लम्बा चाहो बजवा लो. वैसे, आजकल के चौबीस गुना सात एफएम चैनलों से केवल विज्ञापनों के ही तो कार्यक्रम आते हैं. हाँ, बीच-बीच में ब्रेक के तौर पर कुछ गाने बजा दिए जाते हैं. शेष समय मुर्गा-गधा-उल्लू इत्यादि बनाने में व्यतीत होता है. खैर, एफएम चैनलों पर असंतुष्ट नेताओं के लिए अपार संभावनाएं हैं.



अपने इलाके में एक पहुंचा हुआ रीमिक्सिया कलाकार है. पुराने गीतों में नए शब्द भरकर नित नव गीत रचते-गाते रहता है. लेकिन है वह समय के साथ चलने वाला. आज सुबह से ही तान छेड़ रखा है, “ई हs विज्ञापन के दुनिया, तू देख बबुआ.”

ऑटो- मेट्रो, अख़बार-टीवी, सिनेमा-खेल, कप-प्लेट, घर-दीवार, टी-शर्ट वगैरह... सर्वत्र विज्ञापन का ही राज है. जहाँ देखो वहीं विज्ञापन. थोड़ी सी स्पेस दिखी नहीं कि विज्ञापन ठूंस दिया. उसका सुझाव था, आप में योगेन्द्र- प्रशांत आदि के ब्रेक-अप से उत्पन्न रिक्त स्थान को भी विज्ञापनों से ही भर दिया जाए. संभव है, इससे पार्टी का अंतः कलह और क्लेश मिट जाए. विज्ञापन ‘नाशै रोग हरे सब पीरा’ है.

विज्ञापन के लिए ब्रेक चाहिए. ब्रेक का जीवन में बड़ा महत्व है. तथाकथित छोटे से ब्रेक के बाद ही तो बड़ी खबर आती है. बिना ब्रेक गिरने का डर रहता है, बाज़ार में गिरने का. ब्रेक के लिए ब्रेकर चाहिए, रोकड़ चाहिए. और इन सब के लिए कोई प्रायोजक चाहिए यानी स्पोंसर.

इस दौर में हर व्यक्ति, घटना, वस्तु, स्थान इत्यादि प्रायोजित हैं. सबका अपना-अपना स्पोंसर है. सब की स्पोंसरशिप होती है. पार्टी, नेता, जनता, वोटर सब स्पोंसर्ड हैं. स्पोंसरशिप ख़त्म, पार्टी चेंज. आम चुनाव एक लोकप्रिय विज्ञापन-प्रचार स्पर्धा है. जो विज्ञापन कला में निपुण होगा उसकी जीत होगी.

आज हर घटना प्रायोजित है. कॉलेज फंक्शन से लेकर विश्व भ्रमण तक के स्पोंसर हैं. हमारा आपका जीवन भी प्रायोजित है. जन्म, मृत्यु, विवाह इत्यादि सभी के प्रायोजक हैं. दहेज़ भी एक तरह की स्पोंसरशिप ही है. आज प्रेम भी स्पोंसर्ड परिघटना है. बिना प्रायोजक प्रेम असंभव है. प्रेम के लिए बज़ट चाहिए. पैसा खत्म, प्यार ख़त्म. जेब खाली कि बाय-बाय. यहाँ प्रेम की पराजय है. नगद नारायण की जय है.

एक तरफ दहेज़, हत्या, आतंकवाद, दंगा तो दूसरी ओर पद, प्रतिष्ठा, पुरस्कार सब प्रायोजित हैं. सब सौदा है. सबके स्पोंसर हैं. बीते दिनों नीतीश की सभा में दस-बारह साल के लड़के का प्रतिभाशाली भाषण हुआ. लोग शक कर रहे हैं, कहीं वह भी स्पोंसर्ड तो नहीं? क्या करियेगा, कुछ तो लोग करेंगे, लोगों का काम है शक करना- गायक गा रहा है.

और खेल? खेल तो पूर्णतः विज्ञापन का ही एक उपक्रम है. मसलन क्रिकेट की प्रत्येक गेंद, रन, ओवर, विकेट, टीम इत्यादि के स्पोंसर होते हैं. अब तो हार-जीत भी स्पोंसर्ड आने लगी है.

विद्वत जनों के अनुसार विज्ञापन ने मीडिया को खोखला कर दिया है. रेडियो, टीवी और अख़बार के बाद अब सोशल मीडिया भी इसकी गिरफ़्त में है. यहाँ अभी तक तो सब अपना ही विज्ञापन करने में व्यस्त हैं. लेकिन वह रात दूर नहीं जब अधिक फैन फोलोविंग वाले लोग अपनी-अपनी वाल पर मल्टी-नेशनल कंपनियों के विज्ञापन का पोस्ट डालना शुरू कर दें. कवि-कलाकार आदि अपने शो की टिकट बिक्री हेतु इस युक्ति का सदुपयोग कर ही रहे हैं. वहीं फेसबुक पोस्ट के मध्य में ब्रेक डालने पर विचार-मंथन जारी है. इन ब्रेक को विज्ञापन से भरा जा सकता है. परंपरानुसार किसी राजनेता से ही इस परियोजना के उद्घाटन की प्रतीक्षा है.


विज्ञापन एक कला है. फेंकने की कला. समेटने की कला. इसमें जीत है, पैसा है. इसमें सभी अलंकार हैं, रस हैं. छंद, लय, तुक, गति-यति, सौन्दर्य सब है. इसमें साहित्य है. समाज है. किन्तु विज्ञापन है तो मेकअप ही. बिना छपे- बिना दिखे मेकअप का क्या फ़ायदा? रीमिक्सिया बाबू गा रहा है- ई हs विज्ञापन के दुनिया तू देख बबुआ... एकाएक लय-सुर पलटता है और वह संजीदगी से गाता आगे निकल जाता है- ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है...  

नन्दलाल मिश्र जीवन मैग के प्रबंध संपादक हैं। सम्प्रति आप दिल्ली विश्वविद्यालय के संकुल नवप्रवर्तन केन्द्र में मानविकी स्नातक के छात्र तथा दिल्ली विश्वविद्यालय सामुदायिक रेडियो के कार्यक्रम समन्वयक है। आप बिहार के समस्तीपुर से ताल्लुक रखते हैं। 

A series of skype group conversations beetween students from India & Pakistan

A series of skype group conversations beetween students from India & Pakistan
Proudly sponsored by JeevanMag.com
 
Copyright © 2016 Jeevan Mag
Editor-in-chief Akash Kumar Executive Editor Nandlal Mishra Associate Editor AbuZaid Ansari Publisher Blue Thunder Student AssociationShared by WpCoderX
Blogger Widgets