JeevanMag.com

कथा‍-कहानी

यह भी जानो!

अनमोल वचन

काव्य सुधा

ज़रा हटके

Special Offer! One Free featured listing of your classified!

Special Offer! One Free featured listing of your classified!
India's best!

हँसी दिल्लगी

चिंतन‍-मनन

Vedic Tip For Faster Calculation

Stuck in a Maths. Calculation? Shade your worries, Vedic Maths. is here to your rescue!!!

Health Pellets

Check up What's going on in the Medical arena!!!

नोकियाः अस्त होता सूर्य

ऋषभ अमृत व आकाश कुमार बता रहे हैं नोकिया की मार्केटिंग में गिरावट की वजह

Join Team JeevanMag.com

If the creative cat inside you is tempting to come out, Fill up this form & get to be amongst us...It's easy!!!

Sunday, 25 January 2015

Happy Republic Day 2015! Watch online here!

 Watch the Republic Day Parade India online here-



 “If there is one place on the face of earth where all the dreams of living men have found a home from the very earliest days when man began the dream of existence, it is India!” - Romain Rolland
This Republic day let's pledge to make India a better place to live! Let's work together to restore the pride! Happy 66th Republic Day!




US President Barack Obama with a cartoon of him made by JeevanMag.com Cartoonist Anil Bhargava!

Tuesday, 20 January 2015

अच्छे दिन कब आयेंगे?

सरकार बदलने से नहीं बल्कि विचार बदलने से अच्छे दिन आते हैं| अपने दिल पर हाथ रख कर पूछिये कि  क्या अब किसी लड़की के काले रंग और छोटी नाक के कारण उसका रिश्ता नहीं ठुकराया जायेगा? क्या दहेज़ की आग में अब कोई बेटी नहीं झुलसेगी ? क्या किसी को प्यार कर उसे अपना लेने की हिम्मत रखने वाली लड़की को लोग अब गिरी हुई नज़रों से नहीं देखेंगे? क्या विमाता के वचन अब मधुर हो जायेंगे? क्या ''डोम'' के छू जाने पर माँ अब बच्चों को नहलाकर गंगाजल नहीं छिटेंगी? क्या गाँव के ''चमार'' और ''दुषाध'' अब भूमिहार और ब्राह्मण के साथ एक ही लाइन बैठकर भोजन कर पाएंगे? क्या राज ठाकरे ''बिहारियों'' को अब गाली देना बंद कर देगा? क्या क्षेत्र के नाम पर अब लोगों को खदेड़ा नहीं जायेगा? क्या धर्म के नाम पर दंगे अब नहीं होंगे? क्या मंदिर-मस्जिद की राजनीति अब नहीं होगी? अगर इन सब का उत्तर हाँ है तो यक़ीनन जश्न जायज है| 

 
लेकिन अगर शक की कोई गुंजाइश भी है तो क्या फर्क पड़ता है की सरकार ''मनमोहन सिंह'' चलायें या ''टोबाटेक सिंह'' | ये सभी यक्ष प्रश्न आज समाज के सामने सुरसा के समान मुंह खोले खड़े हैं| कोई भी सरकार कानून बना सकती है, जन-मानस को प्रोत्साहित कर सकती है,जागरूकता फैला सकती है, जमीनी स्तर पर उसे अमली-जामा पहनाना किसी सरकार के बस में नहीं है| दहेज़ प्रथा, यौन शोषण, जातिगत भेदभाव के खिलाफ़ कानून तो दो पीढ़ी पहले से मौजूद हैं फिर भी कालजयी शिरीष की भांति यह आज भी फल-फूल रहे हैं| सच कहूँ तो दहेज़ की रकम तो महंगाई से ''डायरेक्टली प्रोपोसनल'' भी हो गई है| आज फिर इस देश को महात्मा गाँधी की जरुरत आन पड़ी है, जो जाकर लोगों से यह कह सके की ''हे पुत्र रंग, धर्म, जाति , लिंग, क्षेत्र और राष्ट्र पर मनुष्य का कोई वश नहीं होता| उसे अपने पैदा होने के स्थान, जाति, धर्म और लिंग संबंधी कोई अधिकार ब्रह्मा ने नहीं दिए हैं, इसीलिए इस आधार पर भेदभाव उचित नहीं है''|

देश की सरकार हमारी सीमाएं सुरक्षित कर सकती है| सरकार बुनियादी ढ़ांचे को मजबूत बना सकती है| सरकार शेष दुनिया से हमारे रिश्तों का जिम्मा ले सकती है| कोई भी सरकार हमारी विकृत मानसिकता को दकियानूसी विचारों को, अंधी प्रथाओं को तथा पितृसत्तात्मक समाजों को नियंत्रित नहीं कर सकती| इन सभी विचारों,प्रथाओं तथा संस्कारों के विधायिका भी हम हैं, कार्यपालिका भी हमीं हैं और न्यायपालिका भी| अतः अब अपने दिल के संसद में एक विधेयक पास कर लेना कि लिंग, धर्म, जाति और क्षेत्र के नाम पर भेदभाव नहीं करेंगे तभी अच्छे दिन आयेंगे| 


(चित्र साभार: एबीपी न्यूज़)

संतोष कुमार जीवन मैग की संपादन समिति के सदस्य हैं। आप दिल्ली विश्वविद्यालय के क्लस्टर इनोवेशन सेंटर में बीए स्नातक (मानविकी और समाजशास्त्र) के छात्र तथा दिल्ली विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो में ओबी प्रभारी हैं.


Monday, 19 January 2015

Frank Bainimarama: Hitler of the Pacific

Frank Bainimarama, is the current military Prime Minister of Fiji. One of my most recent interactions with him before shifting to New Zealand was in November, 2011 at an awards ceremony. I was receiving the award for the “Best Young Writer” by the Kailaand the Fiji Times at Holiday Inn in Suva. He was the chief guest and I was the award recipient. Amidst the claps while handing me the award, he said something very intimidating to me. His exact words were “so you’re the one who writes about me and also gets away with it” followed by an elusive laugh. Though he may have said it flippantly but there was something in his tone that caught my attention. Coincidentally two days before receiving the award I had written an article of a class 3 girl who was not allowed in a bus as her bus voucher was wet and a bit torn. The irony was that I condemned the Minister of Public Service and Transportation for allowing such an incident to happen and the Minister of Transportation in question was Frank Bainimarama himself.

In recent days, international media has become bolder in labeling Frank Bainimarama a dictator. But the main question should be is Bainimarama just a dictator? The term dictator is not quite enough to explain the questionable actions and decisions that Bainimarama has taken in the recent past.

To understand Bainimarama’s regime, the readers first must understand the coup and military history of Fiji. A coup in simple terms means removal of power or takeover of a country by illegal means. Fiji is a small Island nation of approximately 800,000 people. After gaining independence from Great Britain in 1970, began the short yet eventful history of coups, and takeovers. Fiji’s first coup materialized in 1987. This was led by a Military leader called Sitiveni Rabuka. On 14th May, 1987 Rabuka entered the Parliament and announced “Sit down everybody, sit down. This is a take-over. Ladies and gentlemen, this is a military take-over. We apologize for any inconvenience caused [to the MP’s]”. The second coup also took place in 1987 and the third one in 2000 by a businessman named George Speight. The fourth and most recent military takeover was in December, 2006 led by the military Commander-in-chief, Frank Bainimarama himself.

Frank Bainimarama over the past few years has become a very prominent figure in Fiji because of  his relationship with Fiji’s first Prime Minister, Late Ratu Sir K.K.T.M Mara (being his eldest son-in-law). In 2006, in the Pacific island nation of Fiji, troops overran the capital city, threatened the Prime Minister, forced his resignation, placed him under house arrest, imposed censorship on the media, and the coup leader, in the form of the head of the army, went on television to declare himself the new ruler of the country. This was the beginning of a new era in Fiji - the era of Bainimarama regime.

The first mistake that Bainimarama did was to overthrow the previous government. The 2006 coup also had a negative impact on the tourism industry of Fiji. The December 2006 resulted in a major decline in the level of international tourism activity. Although the timing of the unrest was at the very end of the year it was enough to disrupt tourism activity over the normally busy Christmas and New Year. After that the country was declared an “emergency state” and no one was allowed to have [from subjective experience] gathering at home. If one was entertaining guest that exceeded more than 7 people, one has to take permission from the police or else the military will arrest everyone under the delinquency of plotting to assassinate the prime minister of the country.

Another situation that is very controversial is the Bainimarama versus Qarase case. Laisania Qarase is the last democratically elected Prime Minister of Fiji and was ousted by the Militiary government in December, 2006. In this case the President (pressured by Bainimarama post the takeover) dismissed Laisania Qarase as the Prime Minister of Fiji.

Moreover during the trial of Laisania Qarase in 2012, Qarase was charged with six counts of abuse of office and three counts of discharge of duty with respect to a property in which he has a private interest.Numerous international critics including the Commonwealth and the Pacific Forum claim Fiji's country system is controlled by the military regime and has no independence. It is a known fact that Bainimarama's government had demolished the previous judiciary system and brought in new judges from Sri Lanka in 2009.

One of the more astounding decisions of Bainimarama is the number of ministry portfolios that he and his Attorney General, Aiyaaz Sayeed Kayyum hold among themselves. Bainimarama alone handles the portfolio of “Prime Minister and Minister for Finance, Strategic Planning, National Development and Statistics; Public Service; People's Charter for Change and Progress; Minister for Information, National Archives and Library Services of Fiji; Minister for I-Taukei; Provincial Development and Multi-Ethnic Affairs and Sugar Industry, Acting Minister for Lands and Mineral Resource.” That speaks volumes on the dominant nature of Frank Bainimarama.

It is questionable on why a coup regularly happens in Fiji. Fijian political unity is an illusion, a chimera that can never be achieved, let alone forced upon the people). Even though Bainimarama has been cited a dictator by many people, he has also done quite a lot for the people of Fiji. For long, the military forces in Fiji had been the strong supporters of the long-established customary leaders. This was reflected in their conduct of two coups in 1987 with Rabuka to protect traditional Melanesian interests. From 2000, behind Commodore Bainimarama, the army has completely changed its position, championing equal rights for all the citizens, and contesting the archaic customary power.

Frank Bainimarama may have had good intentions in his heart of making Fiji a better place to live in, but his actions have contradicted it. From overthrowing a perfectly legitimate democratically elected government to putting his foot in the Qarase court case, he has done it all. My question again: Is Bainimarama the Hitler of the Pacific?

Ashneel J Prasad is  the Oceania (New Zealand/ Fiji) correspondent of JeevanMag.com A Fijian of Indian descent, Ashneel is currently a student of B.A communications at Massey University, Auckland, New Zealand.

Sunday, 18 January 2015

Indonesia: The world of an ocean boy- Christ Daniel


Hello, I’m Christ from Indonesia. I am Akash’s friend and I am also on the YES Program living here in the United States. It has been really adventurous and fun here. I believe that the young people of the world will share the same future, and the same planet; which everyone of us has the same responsibility to make a better to live.
  
Indonesia, just like India, is a big and beautiful developing country With more than two hundred and fifty million people living across nearly 17,500 islands, we are the fourth most populous country in the world and home to the third largest democracy. Living here in Indonesia is in fact very interesting. We have the largest flower in the world, the Rafflesia, and are the second largest biodiversity hotspot in the world.

We are bordered with the Pacific and the Indian ocean. I come from a small island in Indonesia, called Ambon. It is so small that it’s hard to even find it in the map. But, Ambon is the city of music for Indonesia. The Breezes and rumbling waves fill our ears as natural rhythm, the soft beat of Tifa drum, trains our musical senses.

We have a cultural event called Sasi, when people are prohibited to take or consume certain natural resources in order to preserve them. Then at the end of the period, the kewang or the nature rangers, decide to open the sign calling the fish to come back to the river. As the sun rises, people are already waiting at the river shores, with much joy and glee to collect the fish. It’s great, as fishes jump all over the water, and since there are a lot of fishes flying around, we even catch them just by using our hands. We store them for weeks, until the Sasi is declared closed again.

That’s the life in an archipelagic state of the world. Our people and culture are bound with a great responsibility of guarding the mother nature. We see the nature through the eyes of ocean and nature. What about you?
Christ Soselisa Daniel is Indonesia's youth ambassador to the United States on YES program of Department of State. He is from Ambon, Maluku, Indonesia & is living in Oxford, Arkansas, USA.

Tuesday, 13 January 2015

The New Normal... Rape?

Only one thing remains fixed in today's newspaper's and magazines - A woman has been raped somewhere. 
A woman is raped, a family is asked for dowry in exchange for their daughter's hand in marriage, a mother is told to abort her baby just because it's a girl & they need a boy to survive the lineage, a girl is sold into prostitution, a girl is not given the freedom to pursue her education. I feel ashamed as a man on letting other men do all this.
For us Indians', we are always told by our elders that Devi Durga is the Shakti, he equivalent of strength and hard-work. Then where does the mentality of tagging a female as a weakling come from? The first step towards rape is eve-teasing, disrespecting a woman and undermining a women's strength. Any male hitting a woman or undermining her doesn't make him a 'Man', it just confirms his position as a coward. What makes a man 'Man' is when he defends a female and protects her in a society where she is ill-treated. Let us not forget, it is because of a woman that we came into this world. A girl is always told to go with someone if she wants to go somewhere, or not to go out after the dark? Why? Why can't she go out alone or in the dark? 

It is because of us, that such a society is created where a female cannot live her own life according to her terms. Why must a woman be afraid to live in a world that she has created? Why must a woman face the stigma of rape and the culprit just gets a mere sentence in jail, or worse yet, roam around freely on a bail? Why? 

I strongly recommend maximum penalty in the cases of rape & domestic violence. 
Why must we turn a blind eye when a female is in dire need of help? Let me remind you, today its just her, tomorrow it could be your mother, sister, wife, aunt or friend. 

We, the youth are the voice of today - and together we must break the wall surrounding our minds and accept that a woman can lead, take charge and they must never be looked down upon.We must voice our stand and create such a society where another woman doesn't have the fear of living freely or else, we are not fit to call ourselves Men. 
Ashneel J Prasad is  the Oceania (New Zealand/ Fiji) correspondent of JeevanMag.com A Fijian of Indian descent, Ashneel is currently a student of B.A communications at Massey University, Auckland, New Zealand.

Monday, 5 January 2015

ज़िंदगी गुलज़ार है- अमिनेष

ज़िंदगी गुलज़ार है।

तमाम उलझनों से।
परेशानियों से।
उन तन्हाइयों से।
खुशी और गम का व्यापार है।

ज़िंदगी गुलज़ार है।

अपनी हसरतों से।
दुनिया कि उम्मीदों से।
यादों की गलियों से।
मौन पहेलियों से।
हसीन सपनों का बाज़ार  है।

ज़िंदगी गुलज़ार है।

टूटते रिश्तों से।
रुठते फरिश्तो से।
गुमशुदा मंजिलो से।
बेज़ार है।
फिर भी जाने क्युँ;
यह दिल
जीने को बेकरार है।

ज़िंदगी गुलज़ार है। 



(अमिनेष आर्यन काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में राजनीतिशास्त्र स्नातक‍ प्रथम वर्ष के छात्र हैं। अमिनेष मूलरूप से बिहार के हाजीपुर से सम्बन्ध रखते हैं और जीवन मैग की संपादन समिति के सदस्य हैं।)

Roman Text




Zindagi Gulzaar hai


Tamaam uljhanon se.
pareshaniyon se.
un tanhaiyon se.
khushi aur gham ka vyaapaar hai.

Zindagi gulzaar hai

Apni hasraton se.
duniya ki ummedon se.
yaadon ki galiyon se.
maun paheliyon se.
haseen sapnon ka bazaar hai.


Tootte rishton se.
ruthte farishton se.
ghumshuda manzilon se.
bezaar hai.
fir bhi jaane kyun;
yeh dil
jeene ko bekarar hai.
Zindagi gulzaar hai



Aminesh Aryan  is an editorial board member at JeevanMag.com and a student of Political Science Honors. at the Banaras Hindu University. He comes from Vaishali in Bihar.

Tuesday, 30 December 2014

Child Abuse- Mubashra Saleem

Among thousands of social evils prevailing across the globe, child abuse definitely ranks among the highest on list. It’s a hideous crime practiced since ages. Pain and injury from child sexual abuse can heal with time, however psychological and medical consequences can persist throughout one’s entire life. Every day, countless children around the world are sexually, physically, verbally, or emotionally abused leaving them with the most horrifying and calamitous memories for lifetime, for when they’re supposed to have the most remarkable years of their lives.
 
Statistically, more than five children die every day as a result of child abuse. On average, 3.3 million cases are reported annually. Where child abuse is increasing outrageously throughout the world, the rate is relatively higher in our subcontinent. Before I came to U.S as an exchange student I wasn’t even aware that we can speak against this horrible evil reigning the world. There are many like me back in Pakistan, who don’t know that we’ve the freedom to express our thoughts on this issue. This topic is badly neglected in most countries like those in the Indian Subcontinent not because we’re free of it, but because nobody wants to speak openly about this issue and some even don't consider it an evil.

It’s a worldwide concern but cases are more frequent in the Indian Subcontinent because of the joint family system. All the family members live under one roof, which makes children more vulnerable. Many children in Pakistan are abused but they can’t tell this to anyone because there is an immense lack of communication between parents and children and they’re afraid even if they do, nobody will believe them since they’re never given the confidence to share everything they want to. They’re often threatened by the abuser not to disclose the incident. Even if they want to speak out, they’re not allowed to do so mostly by their parents. It’s considered that keeping such things only to oneself is the best solution to the problem, which indeed is the greatest misconception. The frustration as a result; subjects to committing suicide and incredibly increasing its rate.  Staying quiet about evils never helps in eradicating them; rather it contributes in helping them prevail.
Children also are more vulnerable to child abuse because they’re never taught about how to prevent it. They don’t know what to do if they’re being abused or after they’re abused. It is ironic that due to the lack of awareness, thousands of children become victims.  The lack of knowledge is most instrumental in the threat of child abuse proliferation.

The upbringing of a child plays the paramount role in keeping him safe and secure from all the monsters reaching out to him. Being a child myself, I understand the intense need for awareness on this topic. Only an abused child knows where the shoe pinches and this gives me goose bumps. Certainly this is the most tragic, unfortunate, depressing, distressful, catastrophic, heartrending, and pitiful thing that can ever happen to an innocent child who has not yet seen the true colors of life.

I started to think about child abuse when once my friend shared with me the incident of being abused by her own uncle. She was horrified, scared to death and her lips frozen. As usual, she wasn’t allowed to share this with anyone, which contributed to her psychological stress for months and this turned her life murky and dark. Witnessing all this, I decided to devote my efforts to this cause and guess what, so can we all. Yes, you got it right each and everyone of us can play a role on our part. Yes you can educate your siblings, cousins and children in the vicinity about how to fight this horrendous ogre. Tell them not to stay silent, tell them to speak up, tell them to take someone in confidence, tell them it’s nothing wrong with them and please tell them not to ruin their rest of the lives only because of a person who was indeed a devil. 
 
You know, even a single voice can do wonders! So raise your voice for addressing this issue nationally and globally for making strict laws against the abusers to discourage such practices. The utmost need is to educate the common public; then to create awareness for others and finally raise voice against it, only then we can be successful in eradicating this atrocious epidemic. 

The fact that the once neglected Indian child rights activist Kailash Satyarthi got the Nobel Peace Prize for his contributions to the cause highlights the fact that the scenario  is changing gradually. It's the prime time to do our bit to exterminate this evil. 

Read an another thought-provoking article on Child Abuse here:

(Mubashra Saleem is the Pakistan correspondent of JeevanMag.com A student of Towson High School (Maryland), She is Pakistan's Youth Ambassador to the US on a Department of State program. She hails from Rawalpindi in Punjab, Pakistan.)

Tuesday, 23 December 2014

गुज़रे दिन (ग़ज़ल)- अबूज़ैद अंसारी

गुज़रते रंज में अफ़सोस में हैं ये सारे दिन

मुझे फिर याद आए हैं मुहब्बत के वो प्यारे दिन

वो तन्हाई में तुमको याद करना और रोना था

मेरी नज़रों का टकराना तेरा शर्मिंदा होना था

 
मुलाक़ातों पे एक दूजे से हम ना बोल पाते थे

हज़ारों लफ्ज़ आँखों से ही सुनते और सुनाते थे

नाज़ुक हाथ तेरा थाम कर चलता था राहों पर

ग़ुरूर खुद पर मैं था करता क़िस्मत आसमानों पर


मुझे याद आया वो दिन तूने जब साथ छोड़ा था

कहा मजबूर हूँ समझो ये कहकर हाथ छोड़ा था

कहाँ हो तुम चले आओ अधूरा हूँ मैं तेरे बिन

गुज़रते रंज में अफ़सोस में हैं ये सारे दिन 

 

अबूज़ैद अंसारी जामिया मिल्लिया इस्लामिया नयी दिल्ली में बारहवीं कक्षा के छात्र हैं. आप जीवन मैग के सह-संपादक हैं और नवाबों के शहर लखनऊ से ताल्लुक़ रखते हैं.



 Roman Text

Guzarte ranj me afsos me hain ye saare din
mujhe fir yaad aaye hain muhabbat ke wo pyaare din
wo tanhaai mein tumko yaad karna aur rona tha
meri nazron ka takrana tera sharminda hona tha

Mulakaton pe ek dooze se ham na bol paate the
hazaaron lafz aakhon se hi sunte aur sunate the
Najuk hath tera tham kar chalta tha rahon par
gurur khud par main tha karta kismat aasmanon par

Mujhe yaad aaya wo din tune jab sath chhoda tha
kaha majboor hoon samjho ye kahkar hath chhoda tha
kahan ho tum chale aao adhura hoon main tere bin
guzarte ranj me afsos me hain ye sare din

Sunday, 21 December 2014

An insight into the world of an exchange student- Nabeelah Suleman




December 2014

I am an exchange student.

Three years ago, this simple sentence would not have been of much significance to me. I would be interested in what an exchange student had to say, but I would then pack the entire idea away and carry on with my studies. Today, three years later, that very same sentence holds an entire new world of wonder and discovery.

Today, I am proud to say that I am a Muslim, South African teenager of Indian descent, living in Namibia and currently studying abroad for a year, as an exchange student in Germany.

The question of how I ended up being an exchange student in Germany is a question I’m asked often by people I meet, and also a question that I often ask myself when I look back at the past few years. I came into contact with Rotary International when I joined the new Interact club at my school, a club that focused on improving lives and helping those in need in one’s own society. Around the same time, a good friend of mine revealed that she would be going to Europe for a year as an exchange student, with the Rotary Youth Exchange Program, and so name “Rotary” began to play a more frequent role in my life. I always knew that I wanted to travel to Europe at some point in my life, and perhaps even study at a university there, though I never thought in detail about it, and the idea always stayed a vague dream for the distant future, that is, until I started reading posts from my friend who just departed for her year abroad. It was then that I read all available material about this program and I slowly started visualizing myself actually taking part in an exchange. I looked at a series of exchange programs, but decided on Rotary, because I knew the organization best, the prices were most economical, and I was already in contact with amazing Rotarians.

After discussing the idea with my parents and applying, I was extremely excited to go through the application and preparatory process. I attended the orientations last year, was accepted to go on exchange to Germany, and the time just flew by. The idea that I was actually going overseas didn’t sink in until I was explaining the concept of exchange to my extended family. I didn’t receive many negative comments, though I did have to often explain why I wanted to spend a year abroad to many people, because it was a concept many members of my somewhat conservative family didn’t fully understand because it was something that hadn’t really been done in our family before. Nevertheless, I had lots of supporters and well-wishers at the airport, and despite the tears, I boarded the plane to Germany, which I believe will always be one of the best decisions of my life.


My arrival in Hamburg was a strange experience. The biggest change was the temperature, which had been 30 degrees in southern Africa, and dropped to -12 degrees in northern Germany, and the scenery, which went from browns and greens to bare trees and snow. In a matter of hours, everything was suddenly different, but it was an amazing feeling to realize I was finally there and at the start of my exchange. I didn’t have extreme homesickness, though in the beginning, I did miss my family a lot, especially my parents and sisters. As I got used to my new home, school and life, the weather improved and we had our first exchange student meeting on an island in the North Sea, off the coast of Germany. It was really interesting to meet other exchange students from all over the world, and I found so much in common with the Indian exchange students because my great-great grandparents were from India, and I grew up with an average Indian traditional extended family, even though they lived a few thousand kilometers away in South Africa. As the days got longer with the arrival of spring, and then summer, the time began to fly by.

With Rotary, we were also privileged to go on Eurotour, a three week tour around Europe. The main cities we visited were Prague, Vienna, Venice, Florence, Rome, Vatican City, Savona, Monaco, Paris and Amsterdam. We also had a few other meetings during the year in different cities around Schleswig Holstein. The summer was amazing, though it was sad to go and say goodbye to the exchange students from the exchange year 2013-2014. As an exchange student from the southern hemisphere, I arrived in January 2014, and I will be returning home in January 2015, because the school year in southern Africa starts in January instead of August. I also got to travel around Germany, to so many different cities, as well as to other countries such as Belgium and Denmark. The trip is amazing because the company also plays a huge part in any trip. I have been blessed to have had the most amazing two host families, make some of the best friends I will ever have, and having had the opportunity to meet and get to know people from every corner of the world, of every race, culture, religion and nationality. Despite being fluent in German now, the beauty of being part of such an international community is learning a little of every language. Learning a new language is hard and though I am not perfect at German grammatically, I have become quite fluent at it after speaking it for 11 months.



The year has flown by, and in less than a month, I will be returning to Namibia. I have been so privileged to not only experience so much of Germany, specifically the northern part, but also the whole of Europe, and with that, the world. I appreciate being given this opportunity to represent who I am, and where I come from. I would genuinely recommend every teenager to do an exchange, because I myself have learnt so much this year concerning my personality, beliefs and ambitions. It will be extremely hard saying goodbye to all the wonderful people that I’ve met, but the beauty of the German farewell “Auf Wiedersehen”, is entirely appropriate, with it’s meaning of “until we meet again”.

I am proud to be an exchange student and be part of this worldwide network of young people working together to create bonds of understanding between nations and their different ways of life.


Nabeelah Suleman is a South African teenager of Indian descent, living in Namibia and currently an exchange student in Germany. She serves on the Editorial board of JeevanMag.com as its Africa correspondent.



Jeevan Mag Editor Choice- Jamadio.com

Jamadio is a Music Streaming Internet Radio website and growing Archive, Created to promote Jamaican Music. Jamadio's core goal is to Promote and maintain Jamaican Music and Entertainment of THEN, NOW and BEYOND.

Saturday, 20 December 2014

अम्बेदकरवाद- राघव

बाबा साहब अम्बेदकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर आज कुछ बुद्धिजीवियों के विचार सुनने का मौका मिला। यद्यपि बाबा साहेब के बारे में बहुत ज्यादा पढ़ा नहीं है मैंने, लेकिन फिर भी आज सबकी बातें सुनकर मुझसे रहा नहीं गया। और, फलस्वरूप मैं यह लिखने बैठ गया।
मेरी समझ में एक बात ये आती है कि आपको अपना अस्तित्व बनाये रखने के लिए और लड़ाई में बने रहने के लिए, प्रतीकों की आवश्यकता पड़ती है। समाजवाद, पूंजीवाद, साम्यवाद, गांधीवाद, नारीवाद इत्यादि जितने भी वाद हैं, ये ऐसे ही प्रतिमान हैं जो समय समय पर गढ़े गये। किसी सामाजिक बदलाव के लिए, क्रांति के लिए नहीं ये सभी प्रतिमान गढ़े गये हैं स्वयं को स्थापित करने के लिए। व्यवस्था से असंतुष्ट, उससे रुष्ट कोई आक्रोशित व्यक्ति विद्रोह कर देता है, या कई बार वो सोचता है सिर्फ विचार करता है कि शायद ये होता तो अच्छा होता। ये समाज को साथ लाने के लिए, किसी स्थापित मूल्य की रक्षा के लिए भी हो सकता है और किसी स्थापित रूढी के खिलाफ भी। फिर...फिर वर्षों बाद, जब किसी को ये लगता है कि उसके पास न तो वैचारिक शक्ति है, न ही पर्याप्त साहस, लेकिन वो अपने आपको स्थापित करना चाहता है तो वह अपनी मौलिक विचारधारा नहीं रखता बल्कि पुरानी पड़ी किताबों में बंद कोई बढ़िया आइटम बाहर लाता है जो कि नया नहीं होता, मगर ठीक उसी तरह जैसे जीन्स और टी-शर्ट की पीढ़ी को एक बार कुर्ता कोई अति विशिष्ट और फैशनेबल परिधान लगने लगता है क्योंकि उसके साथ किसी नई कंपनी का ब्रांड होता है। उसी तरह ये पुरानी विचारधारा भी थोड़े से फैशन एलिमेंटस की वजह से मार्केटेबल बन जाती है और फिर गाँधी, आम्बेडकर, मार्क्स के साथ नाम जोड़कर मार्केटिंग का वो नुस्खा अपनाया जाता है जो मसलन दो सौ साल पुरानी चाय बेचने वाली दुकान इस्तेमाल करती है या फिर राजस्थान के शुद्ध वैष्णव ढाबे वाला। यानि कि विचारधारा को पुरानी बताने से वो प्रमाणिक लगने लगती है और उसके साथ नाम जोड़ने से आप किसी ख़ास समुदाय को टारगेट कर पाते हैं माने आपका कंज्यूमर सेगमेंट डिफाइन हो जाता है। फिर क्या है धडल्ले से बेच दीजिये माल। जबतक कोई नया आइटम नहीं आता है मार्किट में चाँदी है आपकी।
 
आज अम्बेदकर पर जिन 'मौलिक बुद्धिजीवियों' को सुना, उससे यहीं लगा कि मार्किट में नया माल ला रहे हैं, अम्बेडकरवाद ओपन मार्किट में लांच नहीं हुआ है मगर xiaomi की तरह सेल शुरू हो गयी है, मार्किट में आएगा कुछ दिनों में। संभव है कि अबतक आपके मन में मेरे प्रति तमाम विशेषणों का पूरा का पूरा एक कोष तैयार हो गया हो। अगर ऐसा है तो कोई नहीं उगल दीजिये। और आपमें से कुछ बुद्धिजीवी मुझ पर दयाभाव दिखाते हुए ये समझने का प्रयास करेंगे कि मैं इतना अधम कैसे हो सकता हूँ। उनके लिए भी है उपचार, तो बात दरअसल ये है की मैं हूँ "ब्राह्मण"। ओह्ह!!! अब तो मुद्दा ही साफ़ है आपको भी समस्या की जड़ नजर आ गयी होगी। सब इस ब्राह्मणत्व का दोष है लेकिन क्या करें प्रकृतिजनित है, हमारा कोई वश तो है नहीं मेरे ब्राह्मण होने पर। अब आप भी मुक्त हैं, मुक्तकंठ से मेरे सम्मान में चालीसा पढकर, मेरे कुल-वंश, और 5000 वर्षों की परम्परा वाला अध्याय पढ दीजिये।
 
आगे का उनके लिए है जो लोग अबतक मेरे सम्मान हेतु कमेंट्स टाइप करना न शुरू कर चुके हों। बात दरअसल ये है कि आज के एक वक्ता बात-बात पर "विरोधी ये कर रहे हैं, वो कर रहे हैं" किये जा रहे थे। "हमको साथ आना होगा" इत्यादि इत्यादि। "ऐसा हो जाये तो सब ठीक हो जायेगा" आदि आदि। बस ये विरोधी कौन है और 'ऐसा' कैसे हो इसपर किसी का कोई मत नहीं। किसी को इस बात से समस्या है कि चुनाव के दिन कोई राजनैतिक दल का प्रमुख यदि अपने घर हवन करा रहा है तो वह सेक्युलर नहीं है। कुमार विश्वास इसलिए घृणा का पात्र है क्योकि उसने मंच पर कविता के बीच ये कहा कि वो मास्टर का बेटा है और ब्राह्मण है। हें....
ब्राह्मण कहा स्वयं को... घोर पाप, घृणित है ये तो। मैं तो कहता हूँ कि डूब मरे कुमार विश्वास- ब्राह्मण पुत्र होने का पाप लेकर जीना कोई जीना है भला। जबतक आप "दलित" न हों आपको अपना वंश बताना कानूनन अपराध है और अगर आप दलित हों तो ये आपका मूल अधिकार है। मगर ये सब बातें धारा 0 के अंतर्गत आती हैं  और सारी की सारी किताबों में नहीं मिलेंगी। इसके अलावा कई उपबंध इस प्रकार हैं कि आप अपना पूरा परिचय देने में यदि 5 पंक्तियाँ बोलें तो कम से कम 3 बार यह बताएं कि आप दलित हैं और कोई भी दुसरा यदि आपको दलित वर्ग का कह दे तो इसे आप अपना अपमान समझें ।
ख़ैर!! आज तक जो कुछ थोडा बहुत मुझको मालूम था कि बाबा साहब बड़े कानूनविद थे, राजनीति विज्ञान और समाजशास्त्र के अच्छे ज्ञाता थे इत्यादि इत्यादि। ये सारे भ्रम आज दूर हो गये और जब ज्ञान चक्षु खुले तो इतना बोध हो गया कि बाबा साहब महामानव थे जो ब्राह्मण शब्द से ही घृणा करते थे। दलित और सिर्फ दलित वर्ग के पुरोधा और नेता। बाबासाहब ने दलित उत्थान के अतिरिक्त अन्य कोई काम नहीं किया।
एक वक्ता ने तो अतिशय प्रभावित किया वो कहते हैं,  "दोस्तों हमें  संगठित होने के लिए पहले एक पैमाना बनाना पड़ेगा कि हमारे साथ आने वाले ये युवा किस मान्यता के हैं?ये उन्ही विचारों को मानते हों जिन्हें हम मानते हों, यद्यपि वाल्मीकि और रैदास को मानने वाले अलग हैं फिर भी वे दलित हैं वे साथ आ सकते हैं लेकिन कोई वेदाभ्यासी हो और गीता पढता हो, जनेउ धारण करता हो तो वो तो ब्राह्मणवादी और दलित विरोधी है।" बेहद सुन्दर, कितना सटीक पैमाना... अहा!!सारगर्भित। भई! बड़े सामाजिक परिवर्तन के लिए चयनित किये जाने वाले लोगों को कसने की कसौटी ऐसी तो होगी ही। हृदय प्रसन्न हो गया, महादेव की कसम। विष्णु ब्राह्मणवादी हो जाते, इसलिए नहीं किया उनका जिक्र।
अभिभूत, मंत्रमुग्ध कर देने वाले वक्ताओं को 2 घंटे सुनकर हृदय की समस्त शंकाओं का निवारण हो गया। एक वक्ता ने आरक्षण के मुद्दे की भी बात उठाई। और बड़ी गंभीर शैली में कहा की "साथियों, आरक्षण का विरोध करने वाले नहीं जानते कि आरक्षण का उद्देश्य क्या है और इसका इतिहास क्या है?" मैं तनिक अतिरिक्त उत्सुकता के साथ सुनने को तत्पर हुआ किन्तु इतने गूढ़ विषय को शायद बता पाना असम्भव था याकि फिर जिस प्रकार अन्य बुद्धिजीवियों के सिर हिले उससे लगा की शायद पहले ही श्लोक में सब छिपा हुआ है और अर्थग्रहण के लिए उसी का अन्वय करना पड़ेगा। अब इतनी योग्यता थी नहीं तो हम उसे वही छोड़कर आगे सुनने लगे जैसे कॉपी में आधे तिहे पन्ने खाली छोड़कर स्कूल में आगे का टॉपिक नोट करने लग जाते थे।
 
बातें इतनी प्रभावोत्पादक थी कि बस जी में ठान लिया कि अब तो बस लड़ना ही है बदल देना है? क्या बदलना है ये सब तो वैसे भी जरुरी नहीं है, बात ये है कि बदलना चाहिए। क्यों बदलना चाहिए? क्योंकि ये जो है वो जो पहले था उसको बदल के आया है। और चूँकि हम ये मान रहे हैं क़ि जो है वो उससे बढिया है जो कि था तो सिद्ध हुआ कि बदलने से भला होगा। बात में दम है और हम सही काम में देरी करते नहीं, और वो भी जब क्रांति वगैरह टाइप के भाव दिल में हों, बिलकुल देर नहीं करते। क्योंकि बड़ा अस्थायी भाव है, न जाने कब ख़त्म हो जाये इसलिए क्रांति की भावना है बस लग लो तुरंत।
अब बदलने के लिए कुछ खास था नहीं, वक्ता लोगों ने चाय वगैरह लिया... बदलना जरुरी था तो डिस्कशन का इशू बदल दिए। बात करने के लिए घर परिवार और तमाम चीजें हैं, बाबा साहब की फिलॉसफी वाला चोंगा तो पार्टी वियर है घंटे दो घंटे से ज्यादा पहनोगे तो फट जायेगा। हमको बंद पंखे के नीचे बैठकर ज्ञान हो गया, बुद्ध बनकर बाहर आये, कदम कैंटीन की और चल पड़े, एक तो चाय पहले भी एक कप ले चुके थे ऊपर से बदलने के लिए ढृढ़प्रतिज्ञ, ब्लैक कॉफ़ी बना के पी लिए। बदलाव हो चुका था और परिवर्तन के भाव भी तिरोहित हो चले थे। परिनिर्वाण दिवस के लिया इतना तो काफ़ी था। शांत, निर्विकार मन लिए बुद्ध की भाँति धीरे धीरे हम कमरे में चले आये।
बाबा साहब अमर रहें।

अगले महापरिनिर्वाण दिवस तक के लिए विदा।

राघवेन्द्र त्रिपाठी 'राघव'  
(लेखक जीवन मैग के संपादन समिति के सदस्य हैं। आप दिल्ली विश्वविद्यालय में बी.टेक/ बी.एस इन इनोवेशन विद मैथ्स एन्ड आइटी के छात्र हैं तथा ग़ज़ल में गहरी रूचि रखते हैं.)


****लेख के विषय-वस्तु से संपादन मंडली का राज़ी होना ज़रूरी नहीं है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का जीवन मग परिवार सम्मान करता है। ***

Saturday, 13 December 2014

Mission Aman Promotional Video

 

Students from India & Pakistan come together on Skype to chat on little sweet things like culture, lifestyle, food, movies & sports...!!!
http://missionaman.jeevanmag.com/
Mission Aman is aimed to break the ice between the people of the "two nations: one soul"!
It's a part of GNML Online, a joint social media initiative of PH International & US Department of State and sponsored by India's first online bilingual magazine by students www.jeevanmag.com
If you want to participate in the program, feel free to drop us a message!

http://missionaman.jeevanmag.com

आख़िर किस ओर युवा भारत?

लोकतंत्र के 65 वर्षो में हमारा भारत कितना परिपक्व हुआ है यह हमें यदा कदा पता चलता रहता हैं जब अख़बार के एक ही पन्ने के चौथाई भाग में मुज़फ्फरनगर के दंगे और भारत का मंगल मिशन साथ प्रकाशित होता है। उसी भारत भूमि का जिसकी सभ्यता 5000 हज़ार साल पुरानी हैं, एक युवा मंगलयान के लिए विशिष्ट उपलब्धि हासिल करता हैं और एक युवा भारतीय दंड संहिता की धारा 148 के तहत जेल में बंद होता है। क्या इस खाई का निर्माण हम युवाओं ने किया है?  
एक ऐसा वर्ग जिसकी ज़रूरत रोटी और रोजगार है वो सड़कों पर धर्म के नाम का हथियार लेकर चलती हैं।
एक ऐसा वर्ग जिसके सदस्य जहाँ राष्ट्रीय भावना में पाक-चीन की सरहदों पर देश की रक्षा करते हैं, उसी वर्ग के दूसरे सदस्य क्षेत्रीय संस्कृति, क्षेत्रीय भाषा, के नाम पर क्षेत्रीय पार्टियों के उकसावे पर राष्ट्र हित तक त्याग कर देते हैं।
आज वर्षों बाद भारत दुनिया का सबसे युवा देश हैं और बहुत खुशी की बात हैं की एक युवा देश, विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र, और उस लोकतंत्र का सबसे बड़ा मंदिर, आज विकास-रोजगार और देशहित में नहीं बल्कि आत्सम्मान, गोडसे , मंदिर, मस्जिद, धर्मपरिवर्तन, माफ़ी , गीता, हिंदू , गर्व हैं की मुसलमान हूँ,गर्व हैं RSS से हूँ इत्यादि इत्यादि राष्ट्र विनाशक तत्वों की बात करता है। हमें समय रहते चेतना होगा ताकि इस सबका परिणाम हमारा यह युवा राष्ट्र न भुगते।
जाने किस उदयमान युवा भारत की चर्चा एक सफ़ेद ढाढी, हाफ़  बंडी- कुर्ते पहनने वाला व्यक्ति विश्व के मंच पर करता है? 


(अमिनेष आर्यन काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में राजनीतिशास्त्र स्नातक‍ प्रथम वर्ष के छात्र हैं। अमिनेष मूलरूप से बिहार के हाजीपुर से सम्बन्ध रखते हैं और जीवन मैग की संपादन समिति के सदस्य हैं।)

Friday, 12 December 2014

मीडिया ट्रायल- संतोष


लोकतंत्र का चौथा स्तंभ 'संवादपालिका' आज खुद कटघरे में खड़ा है| और आरोप है कि इसने 'संवाद' जो कि इसके अस्तित्व की बुनियाद है, से छेड़खानी की है| निरंतर और चौतरफा लगे आरोपों ने इसकी विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा कर दिया है | और लोकतंत्र के लिए इससे बुरा क्या हो सकता है कि मीडिया संदेह के घेरे में हो | यह और भी खतरनाक तब लगता है जब हम इसकी तह तक जाते हैं | मनोविज्ञान के अनुसार कंडीशनिंग का असर मनुष्य पर जीवनपर्यन्त रहता है | बाल्यावस्था से ही हम सूचनाओं से घिरे होते हैं | सूचना से विचार आते हैं, विचार से नजरिया बनता है, नजरिया से अवधारणा बनती है और अवधारणा से व्यक्तित्व का विकास होता है | तो यह साफ दिखता है की एक व्यक्तित्व के विकास में सूचना का कितना महत्त्व है | उदहारणस्वरुप आपने अपने होने वाले पति/पत्नी को नहीं देखा है, विभिन्न सूत्रों से आपको पता लगता है की वो दिखने में बहुत ही सुन्दर हैं,उनकी नाक लम्बी है, रंग गोरा है और वो अच्छा नाचते व गाते भी हैं | तो मन ही मन हम उस व्यक्ति की एक इमेज बना लेते हैं कि वो ऐसे दिखते होंगे | और अगर सूचना ही गलत हो तो ..... ?

शरीर की व्याधि का उपचार तो संभव है, किन्तु इस सूचना तंत्र के बीमार होने से जो मानसिक महामारी फैल रही है यह अनुपचारित है | यह देश के युवाओं को, और विशेषत: उन युवाओं को जो मीडिया में करियर बनाना चाहते हैं उन्हें, गुमराह करती है | छात्र जीवन में हर मीडिया पर्सन को 'एथिक्स ऑफ़ मीडिया' पढाया जाता है फिर क्यों नहीं वो उसका अनुसरण करते हैं? क्यों हमारे यहाँ  'तरुण तेजपाल' जैसे पत्रकार पैदा होते हैं ? क्यों हम पर 'पेड मीडिया' का टैग लगाया जाता है? क्यों हम पर 'बायस्ड' होने का आरोप लगाया जाता है? जब इन प्रश्नों का उत्तर ढूंढते हैं तो हमारे नैतिक मूल्य और शिक्षा व्यवस्था ही प्रश्नों के घेरे में आ जाती है |
एक पत्रकार को शुरू से ही यह घुट्टी पिलायी जाती है कि विचारशून्य बनो | स्मरण रहे की एक विचारशून्य व्यक्ति कभी दूसरों के विचारों की कद्र नहीं कर सकता | सच, सच ही होता है तथा झूठ, झूठ ही | अगर एक पत्रकार सच को सच बता दे तो अपने कर्तव्य का निर्वाह न करने का आरोप कहाँ तक जायज है ? और इस कर्तव्य का निर्धारण आखिर करता कौन हैं ? क्या वही किताबें और कानून जो आज से 40-50 साल पहले लिखी गई थी | उस समय के हिंदुस्तान और आज के इंडिया में बहुत बदलाव आ गया है | आज हमारा एक घोटाला तो कई देशों के बजट से भी अधिक होता है | आज देश की सीमा से अधिक तनाव तो देश के शहरों में होती है | आज जंग से अधिक कुर्बानियां तो दंगो में दी जाती है | आज चोर-डाकुओं से अधिक खौफ तो पुलिसवालों का होता है | आज संसद से अधिक शालीनता तो सड़क पे दिखती है | फिर हम कैसे आशा कर सकते हैं कि बदलाव की इस बयार से मीडिया अछूता रह जायेगा ? निसंदेह आर्थिक पहलुओं ने मीडिया के 'एथिक्स' को प्रभावित किया है परंतु इसकी भूमिका को नजरंदाज नहीं किया जा सकता | आज इक्कीसवीं सदी के भारत में कोई भी संस्थान, समाज या व्यक्ति विचारशून्य नहीं हो सकता, और अगर है तो कम से कम पत्रकार न बने |
अब वक्त आ गया है उस अध्याय को पाठ्यक्रम से हटा देने का जिसकी उपयोगिता बदलते समय में क्षीण हो गई है | अब वक्त आ गया है नई नीतियों के निर्धारण का | अब वक्त आ गया है आत्मचिंतन का | अब वक्त आ गया है खुल कर बहस करने का | हर नीति, कानून, और बहस के अंत में व्यक्ति ही होता है इसीलिए यह सर्वाधिक आवश्यक है कि वह अपने विवेक का इस्तेमाल करे | एक पत्रकार को सच कहने और पूछने का साहस होना चाहिए | सूचना क्रांति के इस दौर में कुछ भी छुपा नहीं है तो फिर इस "पारदर्शी नकाब" की क्या जरुरत है ?
'लोकतंत्र के प्रहरी' को भी अपने नैतिक मूल्यों को समझना होगा, तथा 'ब्रेकिंग न्यूज', 'फ्रंट पेज' और 'लुटियन जोन' की पत्रकारिता से बचना होगा अन्यथा दिन - प्रतिदिन अपनी विश्वसनीयता खोता जायेगा | उसे वंचितों की आवाज बुलंद करनी होगी, उसे भ्रष्टाचारियों को आईना दिखाना होगा और उसे बदलते भारत का गवाह बनना ही होगा |

संतोष कुमार जीवन मैग की संपादन समिति के सदस्य हैं। आप दिल्ली विश्वविद्यालय के क्लस्टर इनोवेशन सेंटर में बीए स्नातक (मानविकी और समाजशास्त्र) के छात्र तथा दिल्ली विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो में ओबी प्रभारी हैं.

Monday, 8 December 2014

शॉर्ट टर्म सीएम के लॉन्ग टर्म बोल! (व्यंग्य)


आजकल बिहार के मुख्यमंत्री को अपने काम से ज़्यादा बयान पर ध्यान देना होता है,काम पर क्यों ध्यान दे ये तो चलता रहेगा पर उनकी गाड़ी का क्या अब खिसकने में कुछ ही दिन जो रह गये हैं। वैसे भी सुशासन बाबु जो काम पर ध्यान लगाए हुए हैं ही,लालू जी भी तो उनका सहयोग दे ही रहे हैं। सीएम जीतन जी के घर में आपको राम जी के जगह नीतीश जी की फोटो मिलेगी क्योंकि जीतन जी के लिए ये पुरुष ही नही महापुरूष हैं! भला,इस घोर कलयुग में जहां अपने बस की कुर्सी नही छोड़ते, इन्होने सीएम की कुर्सी छोड़ दी ! (बात को दबा के रखिये; नमोफोबिया वाले हैं हमसब )
बेचारे नीतीश जी के दाव उल्टे पड़ गये रिमोट कंट्रोल वाली सरकार बनाने चले थे,पर ये तो "आउट ऑफ़ कवरेज एरिया" हो गया! राजनीतिक अस्थिरता के कारण राज्य में विकास कार्य पिछले 2 साल से ठप पड़े हैं। इन सबके ज़िम्मेदार नीतीश कुमार हैं।
लोकसभा में मजदूरी मांग रहे थे जो खुद दुसरे (राज्य कर्मचारी) को देने से इतराते रहे, सड़क पर लठवाते रहे....जनता सब याद रखती है।
*मिला ना बाबा जी का ठुल्लू*
मिला तो गिरिराज को जो चुनाव में गधे की तरह रेंकते रहे,अब सुस्ताने के लिए डेल्ही में हैं।
** मांझी के तराने....
जीतन ने मंदिर से पकड़े चूहे को नीतीश का विदेशी भक्त बताते हुए अपने प्रधानमंत्री बनने से पहले 5000रु देकर बीजेपी के साथ इसकी अस्थि गंगा में बहाने का सपना देख रहे है।


"कड़वा" भी इसलिऐ लगता हूँ लोगों को!
क्योंकि सच बोलता हूँ!
आप कहो तो "मीठा" हो जाऊँ.
फिर ये न कहना...
"बहुत झूठ बोलते हो यार.."

आलोक कुमार वर्मा
कॉलेज ऑफ़ वोकेशनल स्टडीज
दिल्ली विश्वविद्यालय


****लेख के विषय-वस्तु से संपादन मंडली का राज़ी होना ज़रूरी नहीं है.***

Thursday, 4 December 2014

विनम्रता (कविता)- नन्दलाल


विनीति नीति प्रीति की अजेय सनातन रीत है,
सुर असुर के फ़र्क में विनम्रता ही विपरीत है.

विनम्रता नहीं धूर्तता न इसमें अहं का दंश है,
यह आग्रह सत्य का परमात्मा का अंश है.

हित शत्रुओं के विनय ही खड्ग और ढाल है,
समुज्ज्वलित इसी में गांधी की मशाल है.

संग ढलते वय के अडिग दंत सब हिल गए हैं,
और खड़े ठूंठ तरु अंधड़ों में मिल गए हैं.

किंतु लचलचा जिह्वा करती सदा ही राज है,
और नत सफल दरख्तों के सर ही ताज है.

ज्ञान और मोक्ष की होती विनय से ही प्राप्ति है,
निहित इसी में सुख समृद्धि और ख्याति है.

अब जी रहा हूँ बस प्रभु मिलन के वास्ते ही,
हे प्रिय, ले चल मुझे विनय के रास्ते ही.


नन्दलाल मिश्र जीवन मैग के प्रबंध संपादक हैं। सम्प्रति आप दिल्ली विश्वविद्यालय के संकुल नवप्रवर्तन केन्द्र में मानविकी स्नातक के छात्र तथा दिल्ली विश्वविद्यालय सामुदायिक रेडियो के कार्यक्रम समन्वयक है। आप बिहार के समस्तीपुर से ताल्लुक रखते हैं।

JeevanMag.com Archive

Hit Like on the picture to help us win!

A New Tech Revolution!

What is Jeevan Mag?

JeevanMag.com is India's first bilingual e-magazine by students! जीवन मग छात्रों द्वारा हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित भारत की पहली ऑनलाइन द्विभाषी पत्रिका है।
Come here for: कहानियां, कवितायेँ, लेख, चुटकुले, व्यंग्य और बहुत कुछ
Tags: online magazine, bilingual magazine, जीवन मग, द्विभाषी, हिंदी अंग्रेजी पत्रिका, चिंतन‍-मनन, काव्य, कथा‍-कहानी, भारत दर्शन, ऑनलाइन पत्रिका

A series of skype group conversations beetween students from India & Pakistan

A series of skype group conversations beetween students from India & Pakistan
Proudly sponsored by JeevanMag.com
 
Copyright © 2014 Jeevan Mag
Editor-in-chief Akash Kumar Executive Editor Nandlal Mishra Associate Editor AbuZaid Ansari Publisher Blue Thunder Student AssociationShared by WpCoderX
Blogger Widgets